Saturday, July 1, 2017

निगम मुख्यालय में निगम आयुक्त सोनल गोयल ने शनिवार को ली अधिकारियों की बैठक

फरीदाबाद,1जुलाई,2017(abtaknews.com)निगम आयुक्त सोनल गोयल ने शनिवार को निगम मुख्यालय में रैनीवैल परियोजना के तहत समुचित पानी की सप्लाई, बरसात सीजन को देखते हुए रैनवाॅटर हार्वेस्टिंग सिस्टम दुरूस्त करने, डबुआ और बापू नगर में बने मकानों को गरीबों को अलाॅट करने को लेकर एनबीसीसी अधिकारियों और निगम अधिकारियों की मीटिंग ली और रैनीवैल परियोजना के तहत लाईन नंबर-3, 4 और 5 में पेयजल व्यवस्था को बेहतर करने के साथ-साथ बरसाती सीजन में जो रैनवाॅटर हावेस्टिंग सिस्टम काम नहीं कर रहे हैं उन्हें दुरूस्त करने के आदेष दिए। उन्होंने कहा कि गर्मियों में लोगों को सबसे अधिक परेषानी पेयजल को लेकर होती है इसलिए निगम का दायित्व है कि शहरवासियों को समुचित पेयजल व्यवस्था उपलब्ध हो। ताकि गर्मी के सीजन को देखते हुए उन्हें किसी प्रकार की परेषानी का सामना न करना पड़े। मीटिंग में निगम के अतिरिक्त आयुक्त पार्थ गुप्ता, मुख्य अभियन्ता डी0 आर0 भास्कर,, कार्यकारी अभियन्ता एस0के0 अग्रवाल, रमन शर्मा, आनन्द स्वरूप, रमेष बंसल सहित एनबीसीसी के अधिकारी प्रवीण बबेजा सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद थे।मीटिंग में निगम आयुक्त के संज्ञान में अधिकारियों ने बताया कि रैनीवैल परियोजना के अंतर्गत आने वाली लाईन नंबर-3, 4 और 5 में पानी की समुचित सप्लाई नहीं हो पा रही है जिसके कारण आये दिन षिकायतें मिल रही हैै। उन्होंने बताया कि लाईन नंबर-3 में डीजल जनरेटर द्वारा तीन रैनीवैल को पावर सप्लाई नहीं दे रहे है व रैनीवैल तक पहंुचने के लिए अप्रोच रोड नहीं बनाई गई। रोड के दोनों तरफ मिटटी का भराव नहीं किया गया है। वाटर टैंक, मैन बूस्टिंग स्टेषन की दीवारों के लिए किसी प्रकार का सुरक्षा इंतजाम नहीं है। मैन बूस्टिंग पर स्ट्रीट लाईटो का भी किसी प्रकार का कोई प्रबंध नहीं है। मैन बूस्टिंग स्टेषन केे मुख्य द्वार पर व अन्य स्टील के चैंबर पर पेंट नहीं किया हुआ है। इसके अतिरिक्त अधिकारियों ने बताया कि रैनीवैल परियोजना के अंतर्गत जो पाईप उपयोग में लाए गए है गुणवत्ता के आधार पर ठीक नहीं है और वो बार-बार लीकेज होते रहते है। रैनीवैल परियोजना के अंतर्गत 42 अभी तक चालू भी नहीं किए गए है। वहीं अग्रवाल स्कूल के बूस्टिंग स्टेषन पर जो मोटर लगाई गई है वह चल नहीं रही है और खराब हालत में है व बूस्टिंग को खोलने के लिए कवर/प्लेटस का कोई प्रावधान नहीं है। इसके अलावा लाईन नंबर-4 में रैनीवैल की 160 किलोवाट की 8 मोटरों में से 4 मोटर खराब है। नचैली गांव में 23 टयूबवैल अभी तक बोर नहीं किए गए है जबकि गांव वालों को भूमि अधिग्रहण की अदायगी कर दी गई है।मीटिग में बताया गया कि लाईन नंबर-5 में रैनीवैल परियोजना के अंतर्गत 160 किलोवाट की 8 में से 5 मोटरें काम नहीं कर रही है। गांव लक्कड़पुर, मेवला महाराजपुर व सेक्टर-48 के बूस्टिंग स्टेषन का कार्य धीमी गति से चल रहा है। निगम आयुक्त सोनल गोयल ने एनबीसीसी अधिकारियों को सख्त निर्देष देते हुए कहा कि रैनीवैल परियोजना के अंतर्गत आने वाली जितनी भी कमियां निगम प्रषासन द्वारा अवगत करवाई गई है उन्हें एक महीने के अंदर-अंदर दूर किया जाए ताकि जनता को रैनीवैल का पूर्ण लाभ मिल सकें। इसके अतिरिक्त एनबीसीसी द्वारा लगाए गए 181 रैनवाॅटर हावेस्टिंग सिस्टम में से 140 जो चालू हालत काम कर रहे हैं और बचे हुए 40 रैनवाॅटर हावेस्टिंग सिस्टम जो काम नहीं कर रहे हैं उनको 15 दिन के अंदर-अंदर ठीक करवाने के भी निर्देष दिए। उन्होंने एनबीसीसी के अधिकारियों को यह भी कहा कि डबुआ कालोनी और बापू नगर में जो मकान झुग्गी-बस्ती वालों के लिए बनाए गए थे वो जर्जर हालत में हो गए है उनकी रिपेयरिंग आदि करके उक्त मकान निगम को एक महीने के अंदर-अंदर सुपुर्द किए जाए। ताकि निगम द्वारा गरीबों को मकान अलाॅट किए जा सकें।

loading...
SHARE THIS

0 comments: