Tuesday, June 6, 2017

स्कूल में व्यक्तित्व विकास पर दो दिवसीय सेमीनार का आयोजन


फरीदाबाद 6 जून,2017(abtaknews.com ) सैक्टर-37 मे बस कंडक्टर, ड्राईवर, सुवरवाईजर, स्वीपर, लेडी सहायक व चपरासियों के लिए व्यक्तित्व विकास पर दो दिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया। जिसमें भारत के बहुमुखी प्रतिभा के धनी मोटिवेटर व शिक्षाविद् डा. एमपी सिंह मुख्य वक्ता थे। कार्यक्रम की शुरूआत विधालय के निदेशक भास्कर जी ने की और कार्यक्रम के अंत मे विधालय की प्रधानाचार्य श्रीमती कादिम्बरी झा ने डा. एमपी सिंंह का हार्दिक धन्यवाद किया।
डा. एमपी सिंह ने पहले सेशन मे मानव जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि मनुष्य का जीवन बहुमूल्य है और बुद्धि व विवेक से परिपूर्ण है। देश और परिवेश के आधार पर इंसान बदलता है यदि सही समय पर सही ज्ञान मिल जाये तो कुरूतियों, कुप्रव्रतियो से बचा जा सकता है। कोई भी इंंसान गलत नही होता लेकिन समय और स्थिति उसको गलत बना देती है।
दुसरे सेशन ने डा. एमपी सिंह ने बताया कि यदि हम नौकरी करते है तो उसके पीछे कोई कारण होता है। हमे अपनी नौकरी को ईमानदारी से पूरी जिम्मेदारी के साथ करना चाहिए हमे दिखावा नही करना चाहिए, लगन व समर्पण से निश्चित समय सीमा मे अपने काम को निपटाने पर सम्मान व पहचान मिलती है। सत्य सैकडों साल तक जीवित रहता है किसी भी स्थिति मे हमे गलत तरीकों को नही अपनाना चाहिए और न ही बेईमान बनना चाहिए।
तीसरे सेशन मे स्टाप वाच का उदाहरण देते हुए कहा कि एस फॉर सिनसियर, टी फार टें्रड और टेक्टफूल, ओ फॉर ओबिडियंट और ऑबजर्वर, पी फॉर पंचुअल, पॉलाइट व पेशन्स गुणो की व्याख्या विस्तार पूर्वक की और सम्मानित जिंदगी जीने के तरीके बताये।
चौथे सेशन मे हॉस्पिटल शब्द की व्याख्या करते हुए एक अच्छे इंसान के गुण बताये और मेनेजमेंट के प्रति, विधार्थियो के प्रति व परिवार के प्रति कर्तव्य और अधिकारों पर प्रकाश डाला। सभी प्रतिभागियों ने विशेष रूचि ली और डा. एमपी सिंह के उदबोदन की भूरि भूरि प्रशंसा की।

loading...
SHARE THIS

0 comments: