Sunday, June 25, 2017

बेहतर सुविधायें दिलवाने के लिए और भ्रष्टाचार के खिलाफ अनशन पर बैठे बाबा रामकेवल


फरीदाबाद (abtaknews.com) 25 जून,2017 ; एक ओर फरीदाबाद में साम्प्रदायिक घटना से जुडा मामला तूल पकड रहा है तो वहीं दूसरी ओर उसी सम्प्रदाय से जुडे यू एम खान ने हिंदु मुस्लिम सौहार्द की मिशाल पेश करते हुए आज से नगर निगम फरीदाबाद के गेट पर आमरण अनशन के लिये बैठे बाबा रामकेवल को अपने रोजे के अंतिम दिन पूरे रोजे समर्पित करते हुए बाबा को फूल मालायें पहनाकर आमरण अनशन पर बिठाया है। पिछले 40 दिनों से निगम में हो रहे भ्रष्ट्राचार के खिलाफ एसआईटी गठन कर जांच की मांग सत्याग्रह के माध्यम से की जा रही थी मगर निगम प्रशासन सुनने का नाम नहीं ले रहा था जिससे गुस्साये बाबा ने निगम के गेट पर आमरण अनशन शुरू कर दिया है और मांग पूरी न होने पर निगम के सामने प्राण त्यागने की चेतावनी भी दी है। 

फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार को रोकने और पूर्व में हुए घोटालों की जांच की मांग को लेकर भ्रष्ट्राचार विरोधी मंच द्वारा पिछले 40 दिनों से  सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला के साथ - साथ अनशनकारी बाबा रामकेवल भी सत्याग्रह कर रहे थे। मगर लंबे समय से चल रहे सत्याग्रह के बाद भी निगम प्रशासन सुनने को तैयार तक नहीं था, जिससे गुस्साये बाबा रामकेवल ने आज निगम के गेट पर सत्याग्रह के साथ अब अपना आमरण अनशन शुरू कर दिया है। जिसे सम्प्रदा से जुडे यू एम खान ने हिंदु मुस्लिम सौहार्द की मिशाल पेश करते हुए अपने रोजे के अंतिम दिन पूरे रोजे समर्पित करते हुए बाबा को फूल मालायें पहनाकर आमरण अनशन पर बिठाया है।

अनशन पर बैठे बाबा रामकेवल ने मीडिया को बताया कि उनकी मांग फरीदाबाद जनता को बेहतर सुविधा देने के लिये है न कि सरकार से कोई बडा फंड मांगने की है। वो चाहते कि निगम में पूर्व में हुए घोटालों की जांच सीआईटी गठन करके करवाई जाये। पिछले दिनों ज्वांइट कमीश्रर पार्थ गुप्ता ने सत्याग्रह पर बैठे लोगों को बाहरी बोला था जिसमें उनका ईशारा बाबा रामकेवल और पदमश्री डा. ब्रहमदत्त की ओर था, जिसका जबाब देते हुए बाबा ने कहा है कि अधिकारी बौखला गये हैं जो शहर के समाजसेवियों को बाहरी लोग बता रहे हैं उन्होंने पार्थ गुप्ता जैसे दर्जनों अधिकारियों को आते जाते देखा है। बाबा आमरण अनशन को लेकर कहा है कि अगर अनशन के दौरान उन्हें कुछ भी होता तो उसकी जिम्मेदारी निगम प्रशासन की होगी, अब निगम के गेट पर से या तो भ्रष्ट्राचार की जांच के बाद उठेंगे या फिर मरने के बाद। चेतावनी दी है कि वो अपने प्राण निगम पर ही त्यागेंगे ।

वहीं रोजे से चल रहे यू एम खान ने कहा है कि उन्हें बहुत खुशी है कि आज उन्होंने अंतिम रोजे के दिन एक बाबा को नेक कार्य के लिये अपने हाथों से माला पहनाकर अनशन पर बिठाया है। आज उनके रोजे पूरे हो गये हैं और अब बाबा का अनशन शुरू हो गया है वो खुदा से दुआ करेंगे कि बाबा का अनशन सफल हो।

loading...
SHARE THIS

0 comments: