Sunday, June 4, 2017

निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ प्रधानमंत्री कार्यालय ने कसा शिकंजा


फरीदाबाद 04 जून(abtaknews.com)प्रधानमंत्री कार्यालय के हस्तक्षेप के बाद केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई)के चेयरमैन ने फरीदाबाद-गुरुग्राम के 9 प्राइवेट स्कूल डीपीएस-19, मानव रचना सेक्टर-14, चार्मवुड, आइशर-46, रेयान-21, ग्रेन्ड कोलंबस-16ए, हरमनग्रेमेटर-21, द्रोणाचार्य-23 तथा गुडगांव के शेलोम हिल्स स्कूल की मनमानी की जांच करने के आदेश जारी किये है। यह जांच आदेष हरियाणा अभिभावक एकता मंच द्वारा शिक्षा सत्र 2016-17 में की गई शिकायत पर दिये गये है। मंच ने इसे देर से उठाया हुआ कदम बताते हुये कहा है कि शिकायत पर एक साल बाद कार्यवाही करना और वह भी मंच द्वारा प्रधानमंत्री को इस सम्बंध में लिखे गये पत्र के बाद यह दर्षाता है कि सीबीएसई बोर्ड षिक्षा के व्यवसायीकरण पर कतई गंभीर नहीं है। मंच ने इन 9 स्कूलों की पेरेंट्स एसोसिएशन  के पदाधिकारियों की बैठक बुलाई है जिसमें जांच कमेटी के सामने अपना पक्ष रखने की रूपरेखा तय की जायेगी।
मंच के प्रदेष महासचिव कैलाष षर्मा ने बताया कि पहले इन स्कूलों की मनमानी की जांच सीबीएसई के क्षेत्र प्रबंधक पंचकूला को करने के लिये कहा गया था लेकिन उन्होंने व्सस्तता का बहाना बना कर सीबीएसई हैड क्वाटर को अपने स्तर पर जांच कराने को कहा लेकिन जब सीबीएसई हैडक्वाटर ने जांच षुरू नहीं की तो मंच की ओर से प्रधानमंत्री को सीबीएसई चेयरमैन के इस रवैये की षिकायत की गई जिस वर पीएमओ आफिॅस ने सीबीएसई से जवाब तलब किया जिस पर सीबीएसई ने मंच की शिकायत में दर्शाए  गये फरीदाबाद गुड़गांव के उपरोक्त 9 स्कूलों की मनमानी व उनके द्वारा किये जा रहे सीबीएसई नियमों के उल्लंघन की जांच के आदेश दिये है और इस बाबत मंच को पत्र लिखकर अवगत कराया है। मंच के जिला अध्यक्ष एडवोकेट शिवकुमार जोशी व सचिव डा. मनोज शर्मा ने अन्य स्कूलों की पैरन्ट एसोसिएषन से कहा है कि वे अपने स्कूल की मनमानी व लूटखसोट का पूरा ब्यौरा मंच को दें जिससे उनकी भी जांच कराई जा सके।


loading...
SHARE THIS

0 comments: