Friday, June 23, 2017

नाटक किस्सा जानी चोर से हुई थियेटर फेस्टिवल की शुरूआत


फरीदाबाद(abtaknews.com ) 23 जून,2017 ; संभार्य फाउंडेशन द्वारा शुक्रवार को अपने दूसरे संभार्य थियेटर फेस्टिवल की शुरूआत सेक्टर 12 स्थित हूडा कंवेंशन सेंटर में की। संभार्य फाउंडेशन द्वारा इस फेस्टिवल का आयोजन हरियाणा कला परिषद् व निफा की फरीदाबाद इकाई के सहयोग से किया जा रहा है। पांच दिवसीय थियेटर फेस्टिवल के पहले दिन ईश्वर शुन्य द्वारा निर्देशित नाटक किस्सा जानी चोर का मंचन किया गया। शुभारंभ अवसर पर बीजेपी नेता अमन गोयल मुख्य अतिथि के रुप में मौजूद थे। उसके साथ पार्षद नरेश नंबरदार भी उपस्थित रहे। 
पहले दिन प्रस्तुत किए गए नाटक किस्सा जानी चोर के माध्यम से उस समाज पर कटाक्ष किया गया, जहां पर सच बोलते हुए जीना असंभव सा हो गया है। नाटक में दिखाया गया कि कैसे एक चोर अपनी जान दे देता है, लेकिन सच बोलना नहीं छोड़ता। ईश्वर शुन्य द्वारा निर्देशित यह नाटक विजयदान देता की कहानी फितरती चोर पर आधारित था। नाटक में एक चोर की कहानी दिखाई गई, जो अपने उसूलों का पक्का है। वो अपने गुरु को मजाक मजाक में चार वचन देता है कि वो सोने की थाली में नहीं खाएगा, कभी हाथी की सवारी नहीं करेगा, कभी किसी देश का राजा नहीं बनेगा और किसी राजकुमारी से विवाह नहीं करेगा। इस माजक पर चोर का गुरू उससे कहता कि इन सब में से कुछ भी तेरे साथ हो ही नहीं सकता। इसलिए तू मुझे यह वचन दे कि तू कभी झूठ नहीं बोलेगा। इस वचन को देने के बाद चोर के जीवन में कुछ ऐसे घटना होती है कि उसकी प्रसिद्धी चारों तरफ़ फैल जाती है। उसके दिए गए सारे वचन उसके आगे आकर खड़े हो जाते हैं। देश की रानी उसे राजा बनने का मौका देती है और उसके सामने शादी का प्रस्ताव भी रखती है, लेकिन अपने गुरु को दिए गए वचन के कारण रानी को शादी के लिए मना कर देता है। रानी गुस्से में उसे मृत्यु  दंड देती है। चोर अपने प्राण दे देता है, लेकिन अपने गुरु को दिया गया वचन नहीं तोड़ता। 
नाटक के डायरेक्टर ईश्वर शुन्य ने बताया कि आज हमारे आस - पास भी ऐसा समाज विकसित हो गया है, जहां पर सच बोलते हुए जीना असंभव सा हो गया है। इसलिए लोगों ने झूठ का रास्ता अपना शुरू कर दिया है। संभार्य फाउंडेशन के डायरेक्टर अभिषेक देशपाल ने बताया कि शुक्रवार से शुरू होने वाला यह थियेटर फेस्टिवल मंगलवार तक चलेगा और रोजाना नए नाटकों का मंचन यहां पर किया जाएगा। शनिवार को मुकेश भाटी द्वारा निर्देशित नाटक नॉट आउट का मंचन किया जाएगा। यह एक हास्य नाटक किसानों के जीवन पर आधारित है। नाटक में हंसते - हंसते एक बड़ा संदेश देने का प्रयास किया गया है। मौके पर सतीश बैंसला, कर्मवीर, चिराग मोहना, बृजमोहन भारद्वाज, राजकुमार गोगा, संजय, रोहित, आदित्य, विनोद आदि मौजूद  थे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: