Friday, June 2, 2017

रतन लाल रोहिल्ला के स्थानान्तरण आदेश त्रुटिपूर्ण के बावजदू किया गया रिलीव - सुभाष



फरीदाबाद, 2 जून,2017(abtaknews.com) फरीदाबाद नगर निगम प्रशासन के भ्रष्टाचार के विरोध में शहर के समाजसेवियों के साथ निगम मुख्यालय पर गत 17 मई से सत्याग्रह पर बैठे निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला के फरीदाबाद से यमुनानगर किये गये स्थानान्तरण आदेशों को नगर निगम प्रशासन ने त्रुटिपूर्ण ठहराया है और सरकार से इस सम्बन्ध में मार्गदर्शन मांगा है।  वहीं दूसरी ओर नगर निगम यमुनानगर से जन सूचना अधिकारी अधिनियम के तहत प्राप्त जानकारी के अनुसार रोहिल्ला जिस स्थापना अधिकारी के पद पर निगम में कार्यरत थे, वह पद नगर निगम यमुनानगर में स्वीकृत ही नहीं है।  आयुक्त, नगर निगम फरीदाबाद की ओर से शहरी स्थानीय निकाय विभाग के प्रधान सचिव को 19 मई को प्रेषित  पत्र क्रमांक 170 में कहा गया है कि स्थानान्तरण आदेशों में रोहिल्ला का पद अधीक्षक/क्षेत्रिय एवं कर अधिकारी का लिखा गया है, जबकि रोहिल्ला पदोन्नति उपरान्त स्थापना अधिकारी के पद पर पदस्थ है।  सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने आरोप लगाया है कि नगर निगम फरीदाबाद के द्वारा स्थानान्तरण आदेशों को त्रुटिपूर्ण ठहराने और नगर निगम यमुनानगर में स्थापना अधिकारी का पद ना होने की बात यह साबित करती है कि रोहिल्ला का स्थानान्तरण कुछेक भ्रष्ट तत्वों के ईशारे पर इसलिये की गई है कि  रोहिल्ला गैरकानूनी व नियम विरूद्ध काम नहीं करता है और भ्रष्टाचार के विरोध में आवाज उठाने वाला फरीदाबाद का एक जाना-माना चेहरा है।
 उन्होंने मुख्यमंत्री से रोहिल्ला के तबादला आदेशों को अविलम्ब रद्द करने और इस सारे ऐपिसोड की जांच करवाने की मांग की है कि आखिर महाभ्रष्टाचार व अनियमितताओं से भरी हुई फरीदाबाद नगर निगम में कार्यरत एक ईमानदार अधिकारी को किसके ईशारे पर परेशान किया जा रहा है ।  लाम्बा ने बताया कि संघ ने मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखकर इस सारे मामले में सरकार व भ्रष्टाचार विरोधी मंच के बीच मध्यस्था करने की पेशकेश की है जिससे कि एक अच्छे कार्य के लिए की जा रही मांग के कारण नागरिकों व सरकार के बीच अनावश्यक टकराव टल सके।


loading...
SHARE THIS

0 comments: