Sunday, June 11, 2017

अब फरीदाबाद में नहीं घूमते मिलेंगे आवारा पशु : डीसी


फरीदाबाद 11 जून,2017(abtaknews.com ) उपायुक्त समीरपाल सरों ने कहा कि अब खण्ड फरीदाबाद तथा बल्लबगढ़ खण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में आवारा पशु सडक़ों पर घूमते नजर नहीं आयेंगे। नंदियों और गौवंश को आश्रय प्रदान करने के लिए दोनों खण्डों में 7 गऊशालाओं का निर्माण कार्य शुरू किया गया है और 30 जून तक गऊशालाओं में पशुओं को रखने के लिए काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।
उपायुक्त ने रविवार को अपने कैम्प कार्यालय में अधिकारियों की एक बैठक में गौशालाओं के निर्मण कार्य की समीक्षा की। उन्होंने खण्ड विकास एवं पंचायत अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे गौशलाओं के निर्माण कार्य को निर्धारित अवधि में पूरा करवाने के लिए कोई कोर कसर न छोड़ें। गौरतलब है कि बल्लबगढ़ खण्ड के नवादा (तिगांव) फैजूपुर खादर, मोठूका, मोहना तथा पियाला गांव में उपायुक्त द्वारा गौशालाओं की आधारशिला रखी गई थी। इसी प्रकार (मई मास में) फरीदाबाद खण्ड के भूपानी तथा तिगांव अधाना पट्टी में गौशाला निर्माण का काम शुरू किया गया था। उपायुक्त ने कहा कि इन गौशालाओं के बनने से जिला के ग्रामीण क्षेत्र में आवारा घूमने वाले नंदी या गौवंश सडक़ों पर आवारा घूमते नजर नहीं आयेंगे। इन्हें गौशालाओं में रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि इन गौशालाओं के साथ अन्य तीन गांवों में भी गौशालाएं बनाने के लिए ग्राम पंचायतों को प्रेरित किया जा रहा है। उपायुक्त ने बताया कि गौशालाओं में पशुओं के पीने के पानी के लिए टयूबवैल की व्यवस्था की जा रही है। पशुओं के चारे के भण्डारण के लिए शैड बनाए जा रहे हैं। इसके अलावा ग्राम पंचायतों द्वारा पशुओं के हरे चारे के लिए भी जमीन उपलब्ध करवाई गई है।
उपायुक्त ने बताया कि गौशालाएं बनने के बाद आवारा पशुओं के कारण सडक़ों पर होने वाली दुर्घटनाओं में भी कमी हो सकेगी। राज्य सरकार ने गौसंरक्षण को बढ़ावा दिया है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: