Wednesday, June 14, 2017

विश्व रक्तदाता दिवस पर सम्मानित किए गए रक्तदान में रिकार्ड बनाने वाले लोग


फरीदाबाद, 14 जून,2017(abtaknews.com ) जिला रैडक्रास सोसायटी के अध्यक्ष एवं उपायुक्त समीरपाल सरों ने कहा कि रक्त का कोई विकल्प नहीं है। मानव रक्त की भरपाई मनुष्य द्वारा रक्तदान करने से ही हो सकती है। रक्तदान सबसे बड़ा दान माना गया है। उपायुक्त ने यह शब्द आज हुडा कन्वैंशन सैन्टर में आयोजित विश्व रक्तदाता दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहे। उपायुक्त ने जिला रैडक्रास सोसायटी व शहर की विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के सहयोग की प्रशंसा करते हुए कहा कि फरीदाबाद रैडक्रास सोसायटी के माध्यम से संचालित किए जाने वाले जन हितैशी कार्यों में पूरे प्रदेश में शीर्ष पर है। निश्चित रूप से इस काम में स्वयंसेवी संगठनों की सराहनीय भूमिका रही है। उन्होंने आज आयोजित कार्यक्रम के रक्तदाताओं के जुनून को सलाम करते हुए कहा कि मैने अपनी सेवा के विभिन्न जिलों के वर्षों में रक्तदान व मानवीय संवेदनाओं को सहेजने के काम में देखने को नहीं मिला। यही कारण है कि आज रक्तदान के साथ-साथ समाज असहाय व उपेक्षित लोगों की सेवा करने में रैडक्रास सोसायटी का विशेष नाम है। इस साल विश्व रक्तदाता दिवस का नारा-मैं आपके लिए क्या कर सकता हॅूं, निश्चित रूप से मानवीय मूल्यों को सहेजने की ओर इशारा करता है। उपायुक्त ने कहा कि एक रक्तदाता जब नि:स्वार्थ भाव से रक्तदान करता है तो दूसरों को जिन्दगी प्रदान करना उसका प्रमुख लक्ष्य रहता है। उन्होंने कहा कि जब एकत्र किया गया रक्त किसी को जीवन दान देता है तो यह नहीं देखा जाता कि यह रक्त अमूक जाति अथवा वर्ग के व्यक्ति का है। इस प्रकार रक्तदान सही में मानव सेवा है। उपायुक्त ने कार्यक्रम में रचना ढींगड़ा द्वारा 41 बार रक्तदान करने पर प्रंशसा करते हुए कहा कि निश्चित रूप से ऐसी जुनूनी महिलाओं की बदौलत ही फरीदाबाद जिला रैडक्रास की गतिविधियों में अपना स्थान शीर्ष पर बना पाया है। उपायुक्त ने कहा कि जिला रैडक्रास सोसायटी को विभिन्न मानवीय संवेदनाओं को सहेजने के बेहतर कार्य करने पर कई अवार्ड मिले हैं। उन्होंने कहा कि कहा कि बूक-बधीर बच्चों को बोलने व सुनने में सक्षम बनाने के लिए जिला रैडक्रास सोसायटी के सहयोग से इस साल 12 बच्चों को कोकलीयर इम्पलान्ट करवाने की सुविधा दी गई है। इस अपनी तरह के दुलर्भ ऑप्रेशन पर प्रत्येक केस पर साढ़े नौ लाख रूपये तक का खर्चा आता है। उपायुक्त ने उन्हें स्मृति व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इसी प्रकार मदन मोहन नामक अधेड़ उम्र के एक व्यक्ति ने 127 बार रक्तदान किया है। उन्हें उपायुक्त के हाथों स्मृति चिन्ह व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। जिला रैडक्रास सोसायटी तथा रोटरी क्लब संस्कार के संयुक्त तत्वावधान में आज हुडा कन्वैंशन सैन्टर में एक स्वैच्छिक रक्तदान शिविर भी लगाया गया जिसमें 135 युनिट रक्त का संग्रहण किया गया। शिविर का शुभारम्भ उपायुक्त समीरपाल सरों ने किया। कार्यक्रम में विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधियों व सहयोगकर्ताओं को भी विशेष रूप से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं जिन्होंने रक्त संग्रहण व अन्य गतिविधियों को बढ़ाने में रैडक्रास सोसायटी का सहयोग किया है, उन्हें मंच पर उपायुक्त के हाथों सम्मानित किया गया। उन्होंने लोगों के इस जुनून को भविष्य में भी बरकरार रखने की सलाह दी। कार्यक्रम में लोक उत्थान क्लब के अध्यक्ष एवं जिला रैडक्रास सोसायटी के आजीवन सदस्य आर.पी. हंस ने उपायुक्त को स्मृति चिन्ह भेंट किया। रोटरी संस्कार के अध्यक्ष एवं कवि दिनेश रघुवंशी ने मंच का सफल संचालन किया। समारोह में समाजसेवी जगदीश सहदेव, अरूण बजाज, ए.एस. पटवा, एस.डी. शर्मा, डा. एम.पी. सिंह, अनीता शर्मा, गुलशन नारंग, नारायण शर्मा, सरदार विक्रमजीत सिंह, बी.आर. भाटिया, संदीप सिंघल, कैलाश शर्मा, आई.डी. अरोड़ा समेत अन्य समाजसेवी संस्थाओं व समाज के गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।



loading...
SHARE THIS

0 comments: