Tuesday, June 13, 2017

सराय स्कूल में विश्व रक्तदाता दिवस पोस्टरस के माध्यम से जागरुकता अभियान


फरीदाबाद (abtaknews.com )भारतीय रैडक्रास सोसाइटी की जिला फरीदाबाद शाखा सचिव बी बी क्थूरिया व प्राचार्या श्रीमति अंजु के निर्देशानुसार राजकीय जिला आर्दश वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सराय ख्वाजा फरीदाबाद की जूनियर रैडक्रास और सैंट जान एंबुलैंस बिगे्रड ने विश्व रक्तदाता दिवस के अवसर पर पोस्टर बनाओ प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस अभियान के संयोजक विद्यालय के अंग्रेजी प्रवक्ता व जूनियर रैडक्रास  अघिकारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा ने छात्रों को कहा कि 14 जून 1868 को जन्मे शरीर विज्ञान में नोबल पुरस्कार प्राप्त प्रसिद्ध वै़ज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन की याद में यह दिन विश्व रक्तदाता दिवस के रुप में आयोजित किया जाता है उन्होने ही वर्ष 1900 में पहली बार रक्त के विभिन्न ग्रुपस के बारे में बता कर आधुनिक ब्लड ग्रुप प्रणाली विकसित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वर्ष 2004 में पहली बार रक्तदाताओं का आभार व्यक्त करने, सुरक्षित रुप से रक्तदान को बढावा देने तथा आपातकालीन स्थिति में जीवन बचाने हेतु विश्व रक्तदाता दिवस मनाया गया। इस वर्ष का विश्व रक्तदाता दिवस का थीम है - ‘‘ रक्तदान करें, अभी करें और करते रहें ’’ और इस वर्ष का नारा है - मैं क्या कर सकता हूॅ़़ घ् मैं किस प्रकार सहायता कर सकता हूैं घ् मनचन्दा ने ‘रक्तदान की जरुरत क्यों’ के बारे में बताया कि कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जिस की उम्र 18 वर्ष से 65 वर्ष के बीच हो, वजन 45 किलोग्राम से ज्यादा हो तथा हयूमोग्लोबिन की मात्रा 12 ग्राम से अधिक हो रक्तदान कर आपात स्थिति में जरुरतमन्द व्यक्ति की जीवन रक्षा कर उसे जीवन दान दे सकता है।
 उन्होने  बताया कि मानव रक्त का कोई विकल्प नही एकमात्र साधन स्वयं हम मानव ही है, रक्त की आवश्यकता दुर्घटनाओं या बीमारी में रक्त बदलने में, चोट लगने पर सदमे के इलाज के समय, दिल की शल्य चिकित्सा या दिल के प्रत्यारोपण के समय, कैन्सर व अनीमिया के रोगियों के इलाज में, बच्चे के जन्म के समय, नवजात शिशु की जटिल बीमारियों के उपचार में एवम् बच्चों की थेलेसिमिया तथा हिमोफिलिया जैसी जेनेटिक बीमारियों के उपचार व निदान के लिए निरन्तर पडती रहती है, उन्होने यह भी कहा कि हर वर्ष 1करोड 20 लाख यूनिटस रक्त की जरुरत पडती है परन्तु स्वैच्छिक रक्तदान के माध्यम से केवल 90 लाख यूनिटस रक्त की आपूर्ति हो पाती है। इसलिए सभी सक्षम युवा एवम् वयस्क रक्तदान के लिए आगे आए और मानवता के प्रति अपना कर्तव्य निभा कर रक्त की उपलब्घता व आपूर्ति में अन्तर समाप्त करने में सहयोग करें।
 विद्यालय के छात्र व छात्राओं ने इस अवसर पर रक्तदान जागरुकता पर बहुत सुन्दर व आर्कषक पोस्टर बना कर रोग या दुर्घटना, आप्रेशन, शरीर में रक्त की कमी, प्रसव काल में महिला के लिए, थेलेसिमिया, हिमोफिलिया के इलाज के लिए रक्तदान के लिए सदैव तैयार रहने की पे्ररणा दी। विद्यालय की प्राचार्या श्रीमति अंजु, अंग्रेजी प्रवक्ता व जूनियर रैडक्रास प्रभारी रविन्द्र कुमार मनचन्दा, डाक्टर कुलदीप सिंह, अजय कुमार, राजेश कुमार, शान्ति मैडम, ब्रहम्देव यादव, विष्णुदत्त, सिम्मी मैडम, संजु बाला, पल्लवी गर्ग व कृष्णकान्त ने रक्तदान को सर्वोतम दान बताया क्योंकि एक रक्तदानी ही दूसरे को जीवन का वरदान दे सकता है, उन्होनें छात्रों को कहा कि विश्व रक्तदाता दिवस मनाने का उद्देश्य रक्तदान को बढावा देना है ताकि आवश्यकता के समय रक्त के अभाव में कोई कीमती जान न जाए और जरुरत के समय सभी को रक्त उपलब्ध हो जाए।


loading...
SHARE THIS

0 comments: