Friday, June 2, 2017

जल, जंगल और जमीन बचेगी, तभी जीवन सुरक्षित है : राजगोपाल


फरीदाबाद 2 जून,2017(abtaknews.com )न्याय शांति एवं सम्मान के लिए तीन दिवसीय युवा प्रषिक्षण षिविर पृथला, पलवल में शुरू हुआ जिसका उद्घाटन एकता परिषद के संस्थापक प्रसिद्ध गांधीवादी विचारक डा. राजगोपाल पी.व्ही. जी ने किया और युवा नेतृत्व षिविर प्रषिक्षण में पलवल जिले से आये 150 नौजवानों  समिल हुए। कांग्रेस नेता राकेष तंवर ने राजगोपाल जी का पगड़ी बांधकर स्वागत किया एवं आये हुए सारे नौजवानों को अभिनन्दन कर षिविर का संचालन किया।   
युवा षिविर में पलवल जिलें के नौजवानों ने प्रमुख समस्याओं को चयनित किया। हरियाणा जिले की कुछ महत्वपूर्ण समस्याऐं नजर आई जिसमें बड़े स्तर पर नौजवानों के अन्दर बेरोजगारी की समस्या भी सामने निकल कर आई हैं। जिसमें फैक्टियां होने बावजूद भी स्थानीय नौजवानों को रोजगार नहीं मिलते हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियां, कैमिकल्स जमीन के अन्दर डाल रही हैं। जिससें जमीन की उरर्वरक शक्ति नष्ट हो रही है। 
कैमिकल्स को जमीन के अन्दर डाल के जमीन के अन्दर के पानी को भी दूषित कर रहे हैं। नहरों और तालाबों में भी कैमिकल्स को डालकर सिंचाई के पानी को भी जहरीला बनाकर किया जा रहा है। शराब बिक्री से भी नौजवानों के अन्दर नषे की लत हो रही है। इन सारी समस्याओं को लेकर तीन दिवसीय युवा षिविर में चिंतन किया जायेगा। युवा षिविर में एकता परिषद के संस्थापक डा. पी.व्ही. राजगोपाल जी ने संबोधित करते हुए कहा कि षिक्षा जिन्दगी और आजीविका के लिए जरूरी है लेकिन जीवन जीने के लिए भगवान के द्वारा दिया हुआ ज्ञान का भी हमें प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने महात्मा गांधी और बुद्ध से हमें प्रेरणा लेनी चाहिए कि उन्होंने अपना सारा जीवन समाज के लिए प्रेरणादायी बनाया उनके जीवन शैली हम युवाओं को आत्मसात करने की जरूरत है। राजगोपाल जी ने कहा कि देष में जिस तरह जीवन जीने के संसाधनों को पूंजीपतियों और उद्योगपतियों का जिस तरह दोहन कर रहे हैं। उससे आज हमारा जल जंगल जमीन खतरे में हैं और इसी के कारण सही विकास न होकर प्राकृतिक विनाष हो रहा है। इसलिए समाज में हिंसा, अषांति फैल रही है। और सरकारें पुलिस और आर्मी के बल पर देष में शांति लाना चाहते हैं। लेकिन पुलिस और आर्मी से देष में कभी शांति नहीं आ सकती है। शांति के लिए सरकारों को न्यायपूर्ण व्यवस्था लाने की जरूरत है। 
राजगोपाल जी ने कहा कि भारत की सरकार में रक्षा मंत्रालय, कानून मंत्रालय है। लेकिन देष में शांति स्थापित करने के लिए कोई शांति मंत्रालय नहीं हैं। इसलिए भारत की सरकार को एक शांति मंत्रालय का भी गठन करना चाहिए। पृथला के युवा षिविर में कांग्रेस नेता राकेष तंवर, जनवकालत समन्वयक मनीष राजपूत मध्यप्रदेष, मृत्युजंय बिहार, मीरा बहन फरीदाबाद, मीडिया प्रभारी विनोद कुमार भोपाल, दयानन्द, धीरू भगत सिंह, निरंजन नंबरदार, अमीलाल एक्सन आदि उपस्थित थे।

loading...
SHARE THIS

0 comments: