Sunday, June 18, 2017

बेक डोर से नई भर्ती पर पाबंदी और किसी भी प्रकार का भ्रष्टाचार न हो ; भ्रष्टाचार विरोधी मंच


फरीदाबाद, 18 जून,2017 (abtaknews.com ) अनशनकारी बाबा रामकेवल, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला के फरीदाबाद नगर निगम में महाभ्रष्टाचार को रोकने और पूर्व में हुए घोटालों की जांच की मांग को लेकर पिछले 33 दिन से चल रहे सत्याग्रह को सामाजिक संस्थाओं का समर्थन मिलना जारी है। संत नामदेव समाज फरीदाबाद की ओर से प्रधान विनोद तोलम्बिया, पूर्व प्रधान दलीप पंवार, सचिव त्रिलोक रोहिल्ला, सदस्य प्रमोद रोहिल्ला व हरकिशन रोहिल्ला सहित संस्था के अन्य पदाधिकारियों ने भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम का समर्थन किया और सरकार को उसके भ्रष्टाचार मुक्त हरियाणा के नारे को स्मरण करवाते हुए भ्रष्टाचारियों के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही करने की मांग की । दलित नेता बाबू लाल रवि और संजेश देवी, आर.टी.आई. एक्टिविस्ट आर.के. भारद्वाज, समाज सेवी कुलदीप कुमार चावला ने भी सत्याग्रह के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया।  सत्याग्रह स्थल पर उपस्थित नागरिकों को सम्बोधित करते हुए अनशनकारी बाबा रामकेवल व सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री ने कहा कि पाकिस्तान से उजड़ कर आए पुरूषाथर््िायों ने फरीदाबाद शहर का बसाया था लेकिन निगम के भ्रष्टाचारियों , राजनेताओं और अधिकारियों के गठजोड़ ने इसे उजाड़ने का काम किया है।  उन्होंने सरकार को चुनौती दी कि इस आंदोलन को हल्के में लेने की भूल न करें क्योंकि यह व्यक्ति विशेष का आंदोलन न होकर फरीदाबाद की जनता का आंदोलन है और पूरे शहरवासियों में इसकी चर्चा है। उन्होंने शहर के सभी राजनैतिक दलों से दलगत राजनीति से उपर उठकर सत्याग्रह के समर्थन में आने की अपील की जिससे कि भ्रष्टाचार से त्रस्त शहरवासियों को राहत मिल सके। सत्याग्रह पर अन्य के इलावा कर्मी नेता शाहाबीर खान, धीर सिंह, नगर निगम कार्यालय कर्मचारी यूनियन के सचिव दशरथ रेढ़ू, हरीदत्त, भगवान दास, महेन्द्र सिंह, नरेन्द्र कुमार, महेश गुप्ता, आम आदमी पार्टी के कृष्ण कुमार आदि भी उपस्थित थे।
निग्मायुक्त यह सुनिश्चित करें कि नई भर्ती में किसी प्रकार की बेक डोर इंट्री न हो और किसी प्रकार का भ्रष्टाचार न हो इधर मंच के संयोजक अनशनकारी बाबा रामकेवल व सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री ने  कहा है कि कुछ रिक्त पदों पर कर्मचारियों की भर्ती करने की चल रही व्यापक चर्चाओं के बीच काफी लोग मंच से यह सुनिश्चित करने के लिए निरंतर मिल रहे हैं कि इन भर्तियों में किसी प्रकार की हेराफेरी न हो।  मंच ने कर्मियों की भर्ती के निर्णय को जनहित में लिया गया एक अच्छा निर्णय बताया, लेकिन निग्मायुक्त से यह सुनिश्चित करने की जोरदार मांग की इन भर्तियों में पूरी तरह से पारदर्शिता बरती जाए, किसी प्रकार का भाई-भतीजावाद न हो, भ्रष्टाचारमुक्त तरीके से भर्ती हो, बेक डोर इन्ट्री की बजाए समाचार पत्रों में विज्ञापन के माध्यम से आवेदन पत्र प्राप्त करके या फिर रोजगार कार्यालय के माध्यम से ही उम्मीदवारों की सूची तैयार हो और फिर परीक्षा लेकर या फील्ड डयूटी के मामले में उनसे काम करवा करके ही योग्य उम्मीदवारों की भर्ती हो।  मंच ने चेतावनी दी है कि यदि भर्ती में कानूनी प्रक्रिया की अवहेलना की गई तो ऐसी किसी भी भर्ती को न्यायालय में चुनौती दी जायेगी।



loading...
SHARE THIS

0 comments: