Friday, June 9, 2017

जम्मू और कश्मीर खेल मंत्री मोलवी इमरान केन्द्रीय खेल मंत्री विजय गोयल से मिले


नई दिल्ली (abataknews.com)जम्मू और कश्मीर के खेल मंत्री मौलवी इमरान अंसारी ने केन्द्रीय युवा मामले एंव खेल मंत्री विजय गोयल से आज मुलाकात की। कई घंटों की बैठक के दौरान जम्मू और कश्मीर के युवा खिलाड़ियों और सरंचनागत गतिविधियों के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। श्री विजय गोयल ने जम्मू और कश्मीर के प्रतिनिधि मंडल को बताया कि खेल गतिविधियों के लिए 200 करोड़ के पैकेज को मंजूरी देने के प्रधानमंत्री के निर्देशों के अनुरुप स्वीकृत किया है, पहली किस्त के रुप में 30 करोड़ की राशि जारी कर दी है। उन्होंने आश्वासन दिया कि खेल सुविधाओं के सृजन और उनके उन्नय के लिए भी राशि जारी कर दी गई है। केन्द्रीय मंत्री ने यह भी निर्देश दिया कि दो क्रीड़ास्थलों के उन्नयन का काम शीर्ष प्राथमिकता के साथ किया जाए। इस संबंध में मंत्री अपने स्तर पर निष्पादन एजेंसी एनपीसीसी के साथ एक बैठक भी आयोजित करेंगे जिससे की उन्नयन कार्य का शीघ्र सुनिश्चित किया जा सके।
प्रस्ताव प्राप्त होने की स्थिति में श्री गोयल ने इस्लामिक विश्वविद्यालय में एक एस्ट्रो टर्फ फुटबाल के मैदान की मांग पर सहमति जताई। पहली बार खेलमंत्री ने भारतीय खेल प्राधिकरण को जम्मू कश्मीर राज्य में खेल गतिविधियों की देख-रेख के लिए विशिष्ट रुप से उप-निदेशक स्तरीय अधिकारी की नियुक्ति के लिए निर्देश दिए। कई गांवों में भारतीय सरकार द्वारा ओपन जिम उपकरण भी प्रदान किए जाएंगे।
विजय गोयल ने कहा कि इस अतिरिक्त वित्तीय समर्थन के अतिरिक्त राष्ट्रीय खेल संस्थान ने, पटियाला जम्मू कश्मीर के 200 युवाओं को पिछले वर्ष विभिन्न खेलों के कोच रुप में प्रशिक्षित किया। राज्य सरकार के अनुरोध पर खेल मंत्री ने इन प्रशिक्षकों की नियुक्ति कोचों के रुप में तथा उन्हें सभी जिलों में तैनाती करने को मंजूरी दी। पारिश्रमिक भारतीय सरकार द्वारा दिया जाएगा। खेल मंत्री ने विश्वास जताया कि सभी जिलों में खेलों के लिए संरचनात्मक ढांचा तैयार करके और मौजूदा दो मुख्य स्टेडियम और जम्मू व कश्मीर दोनों राजधानी शहरों के उन्नयन से युवा खेलों और रचनात्मक गतिविधियों से जुड़ जाएंगे। जम्मू व कश्मीर के खेल मंत्री मोलवी इमरान अंसारी ने प्रदेश के लोगों के प्रति भारत सरकार द्वारा जताई चिंता के लिए केन्द्रीय मंत्री को धन्यवाद दिया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: