Saturday, June 24, 2017

रेल सफर में झगडे में मारे गए जुनैद के शोकाकुल परिजनों से मिलने फरीदाबाद पहुंची वृंदा करात


फरीदाबाद(abtaknews.com) माकपा सांसद सलीम और पूर्व मैम्बर ऑफ पार्लियामेंट वृंद्धा करात अल्पसंख्यकों के उपर चलती ट्रेन में हुए हमले के बारे में जानकारी लेने के लिये फरीदाबाद के गांव खंदावली पहुंची जहां उन्होंने पीडित परिवार से की मुलाकात की। पीडित परिवार की हालत और हमले में घायल हुए युवकों को देखने के बाद उन्होंने कहा कि सार्वजनिक स्थलों पर साम्प्रदायिक घटनाओं का होना देश के लिये है चितांजनक है। इसकी आवाज वो पार्लियामेंट से लेकर सडकों तक उठायेंगे। मौ. सलीम ने केन्द्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि बिगडते हुए महौल को संभालने की बजह केन्द्र सरकार बिगाडने में असमाजिक तत्वों का साथ दे रही है। इस पूरी घटना को लेकर वृंद्धा करात ने सरकार से तीन सबाल पूछे हंै पहला सबाल - यात्री रेल में छुरी चाकू लेकर कैसे घूंम रहे थे, दूसरा सबाल - घटना के दो दिन बीत जाने के बाद भी सरकार का कोई प्रशासनिक अधिकारी या प्रतिनिधि पीडित परिवार के पास क्यों पहुंचा, और तीसरा सबाल - आखिर इस हमले के पीछे कौन है?
गाजियाबाद  से मथुरा जाने वाली ईएमयू में सीट को लेकर  चलती ट्रेन में चले चाकू छुरी में हुई एक अल्पसंख्यक की मौत और दो घायल, का मामला अब तूल पकडता हुआ नजर आ रहा है। गंभीर रूप से घायल हुए युवकों को दिल्ली भर्ती करवाया गया है जहां उनका ईलाज किया जा रहा है, जिनके हाल चाल पूछने के लिये  भारतीय कम्युनिष्ठ पार्टी (माक्र्सवादी) से मैम्बर ऑफ पार्लियामेंट मौ. सलीम और पूर्व मैम्बर ऑफ पार्लियामेंट वृंद्धा करात पहले अस्पताल पहुंची और उसके बाद फरीदाबाद के गांव खंदावली में पीडित परिवार से मिलने आये। जहां उन्होंने पीडित परिवार से मुलाकात की और पूरे मामले की जानकारी ली। 
इस मौके पर पत्रकारों से बात करते हुए माकपा की वरिष्ठ महिला नेत्री वृंद्धा करात ने कहा कि सार्वजनिक स्थल पर साम्प्रदायिक घटनाओं को अंजाम देना देश के लिये चिंता जनक है, ट्रेन में हुए इस हमले को लोग आपसी विवाद का नाम देकर टालना चाहते है जबकि ये सम्प्रदा से जुडा हुआ मामला है। क्योंकि हमला पूरी तरह से एक तरफा किया गया है। सबसे बडी बिडम्बना की बात तो ये है कि घटना के दो दिन बीत जाने के बाद भी पीडित परिवार के पास सरकार का कोई प्रशासनिक अधिकारी या फिर विधायक मंत्री शोक में शामिल तक होने के लिये नहीं आया है। 
माकपा पार्टी के सांसद मौ. सलीम ने केन्द्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि बिगडते हुए महौल को संभालने की बजह केन्द्र सरकार बिगाडने में असमाजिक तत्वों का साथ दे रही है, जो कि बिल्कुल निंदनीय है, उनकी मांग है कि जल्द से जल्द अरोपियों को गिरफ्तार किया जाये और पीडित परिवार की ईद से पहले आर्थिक मदद कर दी जाये। इतना ही नहीं उन्होंने हरियाणा में हुई इस घटना पर बोलते हुए कहा कि उन्हें हरियाणा सरकार से कोई न्याय की उम्मीद नहीं है, क्योंकि हरियाणा के मंत्री तो हमेशा भडकाउ भाषण देेते हैं।
क्या है सारा मामला 
जिले के खंदावली गांव के 15 वर्षीय विद्यार्थी जुनैद की रेल में सफर करते हुए हत्या की घटना दो गुटों के आपसी झगड़े का परिणाम न होकर साम्प्रदायिक इरादों से संचालित कुछ आपराधिक तत्वों द्वारा किये गये एकतरफा हमले का नतीजा है। यह बात आज यहां  भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के शीर्ष नेता पोलिट ब्यूरो सदस्या का. वृंदा कारात एवं का. मोहम्मद सलीम लोकसभा सांसद ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कही।
पार्टी के  उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल ने गांव में पहुंचकर पीड़ित परिवार से मिलकर अपनी संवेदनाएं प्रकट की। प्रतिनिधिमंडल में का. वृंदा कारात और मोहम्मद सलीम के अलावा केन्द्रीय कमेटी सदस्य एवं पार्टी के हरियाणा राज्य सचिव का. सुरेन्द्र सिंह , राज्य कमेटी सदस्य का. सतबीर सिंह, पार्टी के जिला सचिव शिव प्रसाद, का. विजय झा, निरंतर, नवन सिंह,  का. विरेन्द्र पाल, नौजवान सभा के राज्य सचिव संदीप सिंह, एडवोकेट  विनोद कुमार भारद्वाज, एडवोकेट अहमद निमका आदि गणमान्य लोग शामिल रहे।
शोकसंतप्त परिवार  और गांव के लोगों से मिलने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए माकपा नेतृत्व ने कहा कि हम इस घटना  की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए गहरा रोष  प्रकट करते हैं।  खेद की बात है कि कुछ लोग इसे  दो गुटों का झगड़ा बनाकर पेश करने की कोशिश कर रहे हैं जबकि सच्चाई यह है कि  यह बिना किसी उकसावे के कुछ आपराधिक तत्वों द्वारा  मासूम  लोगों पर  किया गया एकतरफा हमला है। देश और प्रदेश की सत्तासीन भाजपा द्वारा नफरत की राजनीति को जिस तरह से प्रोत्साहन  दिया जा रहा है। उस इस तरह के आपराधिक तत्वों के हौंसले बुलंद हैं और सार्वजनिक जीवन में भी असुरक्षा का वातावरण निर्मित हुआ है। शर्म की बात है कि ऐसी जघन्य वारदात के बावजूद सरकार और  प्रशासन का कोई भी प्रतिनिधि पीड़ित परिवार  को सांत्वना देने तक भी नहीं पहुंचा है। जबकि इस हमले में घायल मृतक जुनैद  का बड़ा भाई  साकिर आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स के ट्रामा सेंटर में मौत से जूझ रहा है।
माकपा के प्रतिनिधिमंडल ने इस हमले में  संलिप्त सभी  अपराधियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने, घायल साकिर के ईलाज  की समुचित व्यवस्था करने तथा पीड़ित परिवार को पर्याप्त मुआवजा देने की मांग की है। पार्टी नेतृत्व ने तमाम देशप्रेमी,  सद्भाव पे्रमी नागरिकों, जनसंगठनों एवं राजनैतिक  दलों से अपील की है कि वे इस हत्यारी नफरत की राजनीति के खिलाफ और न्याय के लिए प्रतिरोध संगठित करते हुए साम्प्रदायिक सौहार्द की रक्षा करें।

loading...
SHARE THIS

0 comments: