Sunday, June 4, 2017

वंचितों, नौजवानों एवं अहिंसा की ताकत से व्यापक आंदोलन की तैयारी : राजगोपाल


फरीदाबाद 4 जून,2017(abtaknews.com )न्याय शांति और सम्मान के लिए युवा षिविर के अंतिम दिन हरियाणा के नौजवानों ने प्रमुख मुद्दों को लेकर रणनीति बनाई। युवाओं ने आरक्षण, जागरूकता, नषा मुक्त, समाज में महिलाओं को सम्मान, भ्रूण हत्या, गैरबराबरी जाति प्रथा, बेरोजगारी, भूमि अधिग्रहण एवं षिक्षा व्यवस्था को लेकर व्यापक आंदोलन की ओर जाने का निर्णय लिया। युवा षिविर में हरियाणा के नौजवानों ने आंदोलन की पूरी रणनीति अहिंसात्मक तरीके से करने की बात कही उन्होंने कहा कि समाज में जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष हिंसा है, चाहे वो शोषण हो, अन्याय हो, दमन हो इन सबको खत्म करने के लिए हरियाणा के प्रत्येक जिलों में युवाओं को संगठित कर एवं प्रषिक्षण देकर समाज में व्यापक बदलाव का काम करेंगे। 
शिविर में नौजवानों को संबोधित करते हुए हरियाणा प्रदेष कांग्रेस के अध्यक्ष अषोक तंवर ने कहा कि हमें पार्टी से उपर उठकर हरियाणा में हो रहे भूमि अधिग्रहण, प्राकृतिक संसाधनों का दुरूपयोग और महिलाओं के सम्मान के लिए आगे आना होगा। उन्होंने कहा कि एकता परिषद ने हरियाणा के नौजवानों को न्याय, शांति और सम्मान के लिए जो प्रषिक्षण षिविर प्रारम्भ किया हैं उससे हरियाणा के नौजवानों के अंदर वैचारिक परिवर्तन के साथ-साथ अहिंसात्मक तरीके से अपने संघर्ष को करने की सीख मिलेगी। उन्होंने कहा कि नौजवान अगर चाहे तो हरियाणा की नहीं बल्कि इस देष की विनाषकारी व्यवस्था को सही विकास की ओर ले जा सकते है। 
एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. रनसिंह परमार ने आगामी 2018 के आंदोलन की तैयारी को लेकर युवा षिविर में नौजवानों को संबोधित करते हुए कहा कि पलवल में आजादी के आंदोलन के समय महात्मा गांधी को पहली बार अंग्रेजों ने पलवल में ही गिरफतार किया था इसलिए पलवल से जय जगत 2018 का व्यापक परिवर्तन का आंदोलन पलवल से प्रारम्भ करने जा रहे हैं। आंदोलन की तैयारी में हमें गांव-गांव में आंदोलन के लिए एक किलो अनाज प्रत्येक परिवार से दान में लेना होगा। उसके साथ-साथ नौजवानों को चयनित कर आंदोलन के साथ जोडऩा होगा, एवं आंदोलन के समय पानी से लेकर अन्य खाद्यय सामग्री की भी तैयारी करनी होगी। जय जगत 2018 में देष भर के 1.5 लाख लोग पलवल से दिल्ली की ओर कूंच करेंगे। 
शिविर के अंतिम सत्र में युवाओं को संबोधित करते हुए एकता परिषद के संस्थापक प्रसिद्ध गांधीवादी विचारक डा. राजगोपाल पी.व्ही. ने कहा कि हमारा आंदोलन चार स्तंभों पर खड़ा है। वंचितों की ताकत, नौजवानों की ताकत, तमाम संगठनों का समर्थन एवं महात्मा गांधी का अहिंसा का सिद्धांत। इन चार स्तभों के लेकर हम लोग दिल्ली की ओर सम्पूर्ण भूमि सुधार कानून एवं आवासीय भूमि अधिकार कानून और वन भूमि पर आदिवासियों के अधिकार को लेकर दिल्ली के लिए कूंच करेंगे जिसमें हरियाणा के हजारों नौजवान इस आंदोलन में एक शांति सेना की भूमिका निभायेंगे इस आंदोलन से हम देष के आम वंचितों और गरीबों के पक्ष में कानून बना सके और उनको जीवन जीने का अधिकार मिल सके। यही इस आंदोलन की सफलता होगी जिसकी तैयारी पूरी देष में व्यापक पैमाने पर एकता परिषद गांव-गांव में कर रहा है। 
युवा षिविर में एकता परिषद के राष्ट्रीय संयोजक रमेष शर्मा, युवा षिविर के संयोजक राकेष तंवर, जनवकालत समन्वयक मनीष राजपूत, फरीदाबाद से मीरा बहन, एकता परिषद मीडिया प्रभारी विनोद कुमार, हरियाणा से धीरू भाई, सतपाल जी, सीतराम जी, सुरेष चन्द आदि नौजवान शामिल थे। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: