Saturday, June 24, 2017

भाई का अवैध निर्माण टूटा तो कांग्रेसी पार्षद का टूटा दिल


फरीदाबाद(abtaknews.com) 24 जून,2017; वार्ड-21 के पार्षद जितेन्द्र भड़ाना(जित्ते) ने फरीदाबाद नगर निगम द्वारा उनके इलाके में तोड़े गए निर्माणों पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा है कि जब यह निर्माण हो रहा था तभी इसे रोकऩा चाहिए था,गरीब जनता जब घरों में आ गई तब नगर निगम को इसे तोडऩे की याद आई। जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि इस निर्माणों को बनाने में अफसर अपना पैसा ले गए और बिल्डर भी पैसा खाकर बैठ गए लेकिन गरीब जनता इस पूर मामले में पिस गई। उन्होनें कहा कि भाजपा सरकार अंहकार में डुबी हुई है। सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाला सरकार सिर्फ भाजपा का विकास, जनता का विनाश करने पर तुली है। 

जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि यह निर्माण कोई एक या दो दिन में नहीं बन गए पिछले लगभग 2-3 वर्षो से इसपर काम चल रहा था पहले नींव भी खुदी होगी,उसके बाद पहला लैंटर भी पड़ा उसके बार दूसरा लैंटर भी पड़ा होगा तब क्या निगम कुम्भकर्णाी नीदं सोया था। जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि गरीब जनता को बेघर किया जा रहा है इतनी गर्मी के मौसम में और आगे बारिशें भी आने वाली है गरीब जनता छत उजडऩे के बाद अपने परिवार के साथ जाए तो जाए कहां। 

जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि सबसे हैरानी वाली बात तो यह है कि बिना पार्षद को सूचित किए और विश्वास में लिए इस तरह इसे तोडऩा कई सवालों को जन्म देता है। जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि अगली सदन की बैठक में इस मामले को जोरदार तरीके से उठाएगें । उन्होनें कहा कि अधिकारियों से जवाब तलब किया जाएगा कि वो आखिर मेरे वार्ड मेें मेरे को बिना विश्वास में लिए कैसे गए।  जितेन्द्र भड़ाना ने कहा कि भाजपा को भविष्य में होने वाले चुनाव में  इसका खमियाजा भुगतना पड़ेगा। ।  

मालूम हो कि सूरजकुंड के लक्कड़पुर के पास बने कई अवैध निर्माणों को आज नगर निगम ने आज जमींदोज कर दिया | बताया जाता है कि संजीव भड़ाना नाम का तथाकथित कांग्रेसी बिल्डर यहाँ अवैध रूप से कई बिल्डिंगें बना रखा था और संजीव भड़ाना खुद को पार्षद जितेंद्र भड़ाना का भाई बताता है | शायद इसीलिये पार्षद भड़ाना अवैध निर्माण टूटने से इतने दुखी हैं लेकिन जो निर्माण हुआ था वो घटिया मैटेरियल से हुआ था अगर ये बिल्डिंग्स अपने आप या हवा के झोंकों से गिर जातीं तो काफी लोगों की मौतें हो सकतीं थीं |


loading...
SHARE THIS

0 comments: