Saturday, June 10, 2017

भ्रष्टाचार विरोधी मंच ने भाजपा जिलाअध्यक्ष गोपाल शर्मा को ज्ञापन देकर जारी रखा सत्याग्रह

agitation-against-corruption-at-mcf-office-faridabad

फरीदाबाद, 10 जून,2017(abtaknews.com) भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल शर्मा ने कहा है कि भ्रष्टाचार विरोधी मंच के द्वारा फरीदाबाद नगर निगम के भ्रष्टाचार के उजागर किये गये मामलों को मुख्यमंत्री के संज्ञान में लाकर इनकी जांच करवाने और निगम के सिस्टम को सृदृढ़, पारदर्शितापूर्ण बनाने के लिए आग्रह किया जायेगा।  श्री शर्मा ने उनको ज्ञापन देने गए मंच के एक प्रतिनिधिमंडल को यह बात कही।  मंच ने ज्ञापन में स्पष्ट किया है कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के भ्रष्टाचार मुक्त शासन/प्रशासन का आह्वान के अनुरूप भ्रष्टाचार विरोधी मंच के बैनर तले जाने माने समाज सेवी अनशनकारी बाबा रामकेवल, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला फरीदाबाद नगर निगम को भ्रष्टाचारमुक्त करने के लिए पिछले   25 दिन से निगम मुख्यालय पर सत्याग्रह कर रहे हैं, लेकिन शासन व प्रशासन ने उजागर किये गये घोटालों पर चुप्पी साधी हुई है।  मंच के प्रतिनिधिमंडल ने उद्योग मंत्री विपुल गोयल, कांग्रेस विधायक ललित नागर व भाजपा विधायक मूल चंद शर्मा के नाम ज्ञापन उनकी अनुपस्थिति में उनके कार्यालय स्टाफ को सौंपा।  इसके इलावा मंच ने इंडियन नेशनल लोकदल के जिला प्रधान देवेन्द्र चैहान व प्रधान महासचिव पवन रावत को सम्बोधित ज्ञापन पवन रावत को, बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष चैधरी रती राम, आम आदमी पार्टी के लांेकसभा अध्यक्ष रणबीर सिंह चंदीला व जिलाध्यक्ष मंजू गुप्ता, सी.पी.आइ्र. के जिला सचिव कामरेड बेचू गिरी, भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) के जिला प्रभारी एम.के. करदम  को भी ज्ञापन सौंप कर सत्याग्रह का समर्थन करने की अपील की।  इन सभी दलों व संगठनों ने हर संभव मदद करने का भरोसा मंच के प्रतिनिधिमंडल को दिया।

 इधर मंच के तत्वाव्धन में जारी सत्याग्रह आज 25 वें दिन भी जारी रहा।  सत्याग्रही अनशनकारी बाबा रामकेवल, डा. ब्रहमदत्त पदमश्री और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला ने कहा है कि सरकार व नगर निगम प्रशासन को 21 घोटालों का विवरण प्रमाणों सहित प्रेषित पन्द्रह दिन हो गये हैं, लेकिन सरकार व निगम प्रशासन ने इस पर चुप्पी साधी हुई है।  उन्होंने नगर निगम प्रशासन को चुनौती देते हुए कहा कि या तो वह मंच के द्वारा उजागर किये गये घोटालों को अनुचित करार दें या फिर सरकार को इनकी एस.आई.टी. से जांच करवाने के लिए सिफारिश करें।  उन्होंने यह भी कहा कि मंच इन घोटालों पर मीडिया के सामने निग्मायुक्त के कार्यालय में ही बहस करने को तैयार है।  सत्याग्रहियों ने मांग की कि हरियाणा सरकार केवल पिछले दो साल में बनाई गई आर.एम.सी. सड़ंकों की ही जांच सी.बी.आई. से करवा ले, कई अरब रूपये के घोटाले का पर्दाफाश हो जायेगा। इन सड़कों के निर्माण में हुए घोटालों का विवरण मंच के द्वारा न केवल बहुत जल्दी ही उजागर कर दिया जायेगा बल्कि इन घोटालों में संलप्ति अधिकारियों के विरूद्ध इस्तगासा भी दायर कर दिया जायेगा।

loading...
SHARE THIS

0 comments: