Friday, June 23, 2017

हाउस टैक्स कम करने की एवज में 2-2 हजार रूपये रिश्वत लेते पकडे गये निगम के दो हाउस टैक्स इंस्पेक्टर



बल्लबगढ़(abtaknews.com) नगर निगम में फरीदाबाद विजिलेंस टीम ने एक व्यक्ति की शिकायत पर छापा मार कर दो इंस्पेक्टरों को गिरफ्तार किया है, उदयराम और अशोक कुमार नामक दोनों इंस्पेंक्टर हाउस टैक्स कलैक्ट करने का काम करते थे जिन्होंने जितेंन्द्र पाल से हाउस टैक्स कम करने की एवज में 2-2 हजार रूपये रिश्वत के मांगे थे जिन्हें पैसों के साथ निगम दफ्तर से ही गिरफ्तार कर लिया गया है। दोनों इंस्पेक्टर निगम को चूना लगाकर 72 हजार के हाउस टैक्स को मात्र 7 हजार में 2-2 हजार रूपये अपने लिये रिश्वत के लेने के बाद निपटाना चाहते थे।
सेक्टर 17 स्थित विजिलेंस टीम की पकड में नजर आ रहे ये दोनों व्यक्ति नगर निगम बल्लभगढ में हाउस टैक्स कलैक्शन विभाग में इंस्पेक्टर के पद पर कार्यरत थे जिन्हें आज विजिलेंस टीम ने हाउस टैक्स कम करने की एवज में 2-2 हजार रूपये रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया है। 
इस बारे में अधिक जानकारी देते हए विजिलेंस फरीदाबाद के डीएसपी जयवीर राठी ने बताया कि उन्हें सैक्टर 55 में रहने वाले जितेंन्द्र पाल ने शिकायत दी थी कि निगम में दो इंस्पेक्टर उनसे 2017 - 18 का हाउस टैक्स कम करने की एवज में 2-2 हजार रूपये की रिश्वत मांग रहे हैं जिसपर उन्होंने अपनी विजिलेंस टीम तैयार कर पूरी फिल्ंिडग बिठाई और निगम कार्यालय बल्लभगढ से दोनों इंस्पेक्टरों को रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। डीएसपी ने बताया कि उदयराम और अशोक नाम के दानों इंस्पेक्टरों की सर्विस अंतिम दौर में चल रही थी आने वाले 1 साल में दोनों ही रिटायर्ड होने वाले थे। 
शिकायतकर्ता जितेंन्द्र पाल की माने तो दोंनों इंस्पेक्टरों ने पहले तो 2017- 18 का हाउस टैक्स करीब 72 हजार रूपये बताया फिर उसके बाद 42 हजार बताया और अंत में उन्होंने कहा कि हमें 2 - 2 हजार रूपये अलग से देने होंगे, जिससे हम हाउस टैक्स को कम से कम रूपयों में करके जमा कर देंगे। अंत में फेंसला 7 हजार रूपये पर हो गया, जितेन्द्र पाल को 7 हजार हाउस टैक्स के और 4 हजार रिश्वत के देने थे, मगर जितेन्द्र पाल रिश्वत नहीं देना चाहता था इसलिये उसने विजिलेंस में शिकायत कर दी और दोनों इंस्पेक्टरों को रंगे हाथों गिरफ्तार करवा दिया। साथ ही जितेन्द्र पाल ने कहा कि निगम में भ्रष्ट्राचार पूरे चर्म पर है प्रत्येक विभाग में बिना रिश्वत के कोई अधिकारी कार्य नहीं कर रहा है।


loading...
SHARE THIS

0 comments: