Sunday, May 28, 2017

सशक्त युवा फाउंडेशन ने गांव गढख़ेड़ा में मेधावी छात्रों को किया सम्मानित


sashakt-yuva-foundation-faridabad


बल्लभगढ़(abtaknews.com ) गांव गढख़ेड़ा के सरकारी स्कूल का 10वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम इस वर्ष बेहद खराब रहा। परीक्षाओं में 18 बच्चों में से सिर्फ एक बच्चा उर्तीण हो पाया। खराब परीक्षा परिणाम के लिए अभिभावक, अध्यापक, ग्राम पंचायत ने एक-दूसरे पर दोषारोपण करने की बजाए इसका सकारात्मक हल निकाला है। रविवार को स्कूल प्रबंधन कमेटी(एसएमसी) द्वारा आयोजित अभिभावक-अध्यापक बैठक(पीटीएम) में अभिभावक व अध्यापकों ने संयुक्त रूप से स्कूल के शिक्षा स्तर को ऊपर उठाने का संकल्प लिया। बैठक में एक जून से शुरू होने वाली ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान 9वीं व 10 कक्षा के बच्चों की अतिरिक्त कक्षाएं लगाने, मंगलवार तक हर बच्चे को पाठ्यपुस्तक दिलवाने, हर दिन स्कूल डायरी लिखने उस पर अभिभावकों के हस्ताक्षर सुनिश्चित करने, गणित अध्यापक को कमी को पूरा करने के लिए जिला शिक्षा अधिकारियों से मिलने और हर माह पीटीएम आयोजित करने का फैसला लिया गया। बैठक की अध्यक्षता एसएमसी अध्यक्ष हरीदत्त और प्राध्यापक सतेंद्र ने संयुक्त रूप से की। 
sashakt-yuva-foundation-faridabad

जबकि इस मौके पर सशक्त युवा फाउंडेशन के मुख्य प्रबंधक ट्रस्टी मुकेश वशिष्ठ, सरपंच प्रतिनिधि वीरसिंह सैनी, पंच चंद्रपाल लोर, समाजसेवी उदयपाल प्रजापति मौजूद थे। बैठक में प्राध्यापक सतेंद्र ने कहा कि खराब परीक्षा परिणाम के लिए स्कूल अध्यापकों को दोषी ठहराना उचित नहीं है। अध्यापकों के साथ अभिभावक भी उतने ही दोषी है। इसलिए शिक्षा के स्तर को उठाने के संयुक्त प्रयास करने पड़ेंगे। एसएमसी अध्यक्ष हरीदत्त ने कहा कि खराब परीक्षा परिणाम ने उनकी आंखे खोल दी है। इसलिए स्कूल प्रशासन, अभिभावक व ग्राम पंचायत के सहयोग से अब शिक्षा का स्तर ऊंचा किया जाएगा। बैठक में 10वीं कक्षा में उर्तीण छात्र विपिन और 9वीं कक्षा के टॉपर छात्र जयप्रकाश को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया। ताकि बाकी बच्चों का हौसला बढ़ सके। बैठक में अभिभावक महेंद्र सांगवान, ज्ञानेंद्र, साबिर, जोगेंद्र, संगीता, रेखा, कुसुम, बबीता के अलावा अध्यापक नरपत, सुरेश चंद, रामजीत, रितुराज, कोमल और योगेश सांगवान सहित अनेक लोग मौजूद थे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: