Tuesday, May 2, 2017

वाईएमसीए विश्वविद्यालय को सशक्त बनाने की दिशा में कार्य कर रही है सरकारः कविता जैन

kavita-jain-ymca-national-seminar-closing-faridabad

फरीदाबाद, 2 मई,2017(abtaknews.com) हरियाणा की सूचना, जनसम्पर्क एवं भाषा और कला एवं सांस्कृतिक मामले मंत्री श्रीमती कविता जैन ने आज कहा कि राज्य सरकार शिक्षा प्रणाली को सुदृृढ़ बनाने तथा के लिए प्रतिबद्ध है तथा वाईएमसीए जैसे प्रमुख शिक्षण संस्थानों को सशक्त बनाने के लिए कार्य कर रही है ताकि ऐसे शिक्षण संस्थान समाज को बेहतर योगदान दे सके।श्रीमती जैन आज फरीदाबाद के वाईएमसीए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा ‘गणित और कम्प्यूटिंग में प्रगति’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन के समापन समारोह को संबोधित कर रही थी। समारोह की अध्यक्षता कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने की। आईआईटी नई दिल्ली से प्रो. आर. के. शर्मा समारोह के विशिष्ट अतिथि थे। 
kavita-jain-ymca-national-seminar-closing-faridabad

हरियाणा स्वर्ण जयंती वर्षोत्सव उपलक्ष्य में विश्वविद्यालय के मानविकी एवं विज्ञान विभाग तथा कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन में लगभग 150 से प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया तथा 100 से ज्यादा शोध पत्र प्रस्तुत किये गये। समापन सत्र के दौरान संकायाध्यक्ष डॉ. संदीप ग्रोवर, डॉ सी.के. नागपाल, प्रो. राज कुमार तथा कम्प्यूटर इंजीनियरिंग के विभागाध्यक्ष डॉ. कोमल कुमार भाटिया भी उपस्थित थे।
    21वीं सदी में गणित एवं कम्प्यूटर विज्ञान को महत्वपूर्ण बताते हुए श्रीमती कविता जैन ने कहा कि गणित, कम्प्यूटर व विज्ञान की बिना ‘डिजिटल इंडिया’, ‘स्किल इंडिया’ और ‘मेक इन इंडिया’ जैसी योजनाओं की परिकल्पना नहीं की जा सकती। कुलपति दिनेश कुमार द्वारा वाईएमसीए विश्वविद्यालय में बरसात के दौरान होने वाले जलभराव की समस्या के समाधान के आग्रह पर श्रीमती जैन जोकि राज्य सरकार में शहरी स्थानीय निकाय मंत्री भी है, ने आश्वासन दिया कि विश्वविद्यालय को आ रही दिक्कतों का समाधान किया जायेगा। उन्होंने बताया कि सरकार विभिन्न विश्वविद्यालयों के साथ कालेजों को संबद्ध करने की दिशा में कार्य कर रही है, जिससे ऐसे विश्वविद्यालय और अधिक सशक्त होंगे।
    इससे पहले सुबह के सत्र में एमडीयू, रोहतक से प्रो. नसीब सिंह गिल तथा जेआईआईटी, नोएडा से प्रो. भू देव शर्मा मुख्य वक्ता रहे। प्रो. शर्मा ने आधुनिक भारत की नवीनतम कम्प्यूटिंग तकनीक पर अपना व्याख्यान दिया तथा इस क्षेत्र में इंटरनेट आफ थिंग्स, मोबाइल क्लाउड्स, डाटा मैनेजमेंट और साइबर सिक्योरिटी जैसे विषयों पर अनुसंधान पर बल दिया। प्रो. भू देव शर्मा ने गणितीय मॉडलिंग तथा कम्प्यूटर सिमुलेशन पर व्याख्यान दिया। 
    दो दिवसीय सम्मेलन में कुल छह आमंत्रित व्याख्यान तथा आठ समानांतर तकनीकी सत्र आयोजित किये गये। विभिन्न तकनीकी सत्रों में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, वेब आधारित कम्प्यूटिंग, गणितीय मॉडलिंग, मशीन लर्निंग, एप्लाइड मैथमेटिक्स व कम्प्यूटिंग, मैथमेटिक्स व इंजीनियरिंग एप्लीकेशन्स, क्लाउड कम्प्यूटिंग, वायरलैस नेटवर्क तथा सिक्योरिटी इंजीनियरिंग जैसे विषयों पर शोध पत्र प्रस्तुत किये गये।
    सम्मेलन के अध्यक्ष प्रो. राज कुमार ने सम्मेलन की कार्यवाही रिपोर्ट रखी तथा अंत में सम्मेलन के सह अध्यक्ष डॉ. कोमल कुमार भाटिया ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा। समारोह का संचालन डॉ. नीतू गुप्ता, डॉ. पारूल, डॉ. सपना गंभीर तथा डॉ. नीलम दूहन ने किया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: