Tuesday, May 9, 2017

फरीदाबाद में भाजपा नेताओं की लाईव गुंडागर्दी,पीडितों पर ही मामला दर्ज,घर में मारा




फरीदाबाद(abtaknews.com) 09 मई,2017;  प्रदेश व देश में भारतीय जनता पार्टी के 3 साल पूरे होने जा रहे हैं। सत्ता में सुशासन का दावा करने वाली भाजपा की पूरी फिल्म देखिए जो केवल पहले पानी भरने को लेकर हुई। भाजपा के नेताओं ने घर में घुसकर परिवार पर धावा बोला और अपने विधायकों, मंत्रियों के राजनैतिक दबदबे के चलते उल्टा पीडित परिवार पर ही पुलिस में मामला दर्ज करा दिया। सत्ता के नशे में चूर भाजपा पदाधिकारियों की गुंडागर्दी की लाईव तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें बडखल भाजपा मंडल अध्यक्ष कर्मवीर बैसला और ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष सुरेन्द्र जांगडा  एक घर में घुसकर मारपीट करते हुए नजर आ रहे हैं, फरीदाबाद के एसजीएम नगर में दोनों पक्षों के बीच, मारपीट पानी के टेंकर को लेकर हुई है, इस झगडे में भाजपा के पदाधिकारियों द्वारा पीडित परिवार की बहु को धक्का दिया गया जिससे उसके गर्भ में पल रहा ढाई माह का बच्चा खराब हो गया, जिसके कारण उसे गर्भपात करवाना पडा, पीडित परिवार के साथ हुई गुंडागर्दी के बाद भी पुलिस ने राजनीतिक दबाब के चलते पीडितों के खिलाफ ही मामला दर्ज किया है। झगडे मारपीट और पीडित परिवार को पुलिस पीसीआर में बिठाकर ले जाने तक की सभी तस्वीरें सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई हैं। घटना 16 अप्रैल को घटित हुई लगभग एक माह गुजर जाने के बाद भी पुलिस ने पीडित पक्ष का न तो मेडिकल करवाया है और नही उसकी शिकायत ली है।

नगर निगम फरीदाबाद के पानी के टेंकर के चलते एसजीएम नगर में दो पक्षों में जमकर लाठी डंडे और लात घूसों के चलते झगडा हुआ, झगडे की पूरी तस्वीरें सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई हैं जिसमें साफ साफ दिखाई दे रहा है कि बडखल भाजपा मंडल अध्यक्ष कर्मवीर बैसला और ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष सुरेन्द्र जांगडा दूसरे पक्ष के घर में घुसकर किस कदर मारपीट करते हुए नजर आ रहे हैं , लात घूंसों से पिटाई करने के बाद भी सत्ता के नशे में मदहोश दोनों भाजपा पदाधिकारियों हाथों में लाठी लेकर पीडित परिवार को मारने पर उतारू हो रहे हैं। पडोंसियों द्वारा बीच बिचाव करने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची मगर सत्ताधरी नेता पुलिस के सामने भी पीडितों को मारने के  लिये उनके घर की ओर दौड रहे हैं, और पुलिस उन्हें रोकने और समझाने के बजह मुंह फेर की निकलती हुई नजर आ रही है, इतना ही नहीं राजनीतिक दबाब पुलिस कर्मियों पर उस वक्त और अधिक देखने को मिला जब पुलिस हमलावर भाजपा नेता को पकडने की जगह पीडितों को भी पकड पुलिस पीसीआर में बिठाते हुए दिख रही है।

देखिए भाजपा नेताओं की गुंडई की लाईव तस्वीरें---वहीं इस पूरे मामले में पीडित परिवर के मुखिया रविन्द्र की माने तो झगडा पानी के टेंकर से पानी भरने को लेकर हुआ और बात इतनी बढ गई कि सामने रहने वाले बडखल भाजपा मंडल अध्यक्ष कर्मवीर बैसला और ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष सुरेन्द्र जांगडा  ने उनके घर में घूसकर उनपर हमला कर दिया, और पुलिस ने भी सत्तापक्ष का साथ देते हुए उनके परिवार को भी पकड लिया और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी, इतना ही नहीं उसकी पत्नी को महिला पुलिस न होते हुए भी रात्रि के 12 बजे तक उसे एसजीएम नगर थाने में रखा गया। मारपीट की घटना 16 अप्रैल को घटित हुई एक माह बीत जाने के बाद भी सभी सबूत दिखाने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्यवाही नहंी की है उनकी मांग है कि उन्हें न्याय मिलना चाहिये।

इस मारपीट की वारदात में एक 21 साल की पीडित परिवार की बहु को अपना ढाई महीने का बच्चा गवाना पडा है, पीडित परिवार की बहु की माने तो झगडे के समय वो दूर खडी थी तभी कुछ लोग आये उन्हें धक्का लगा जिससे वो पेट के बल नीचे गिर पडी जिससे उसका बच्चा खराब हो गया, इस बजह से उसे अपना गर्भपात करवाना पडा।वहीं इस पूरे मामले में पुलिस से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने इस बारे में कुछ भी बोलने से साफ- साफ मना कर दिया। भय और भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने वाली सत्तारूढ भाजपा पार्टी जिसका लोकप्रिय अभियान कन्या भ्रूण हत्या पर अंकुश और बेटी बचाओ की दुआई देने वाली भाजपा सरकार क्या अपने ही नेताओं द्वारा की गई एक बच्चे की गर्भ में हत्या के मामले में पीडित परिवार को न्याय दे पाएगी?


loading...
SHARE THIS

0 comments: