Wednesday, May 31, 2017

विश्व धूम्रपान निषेध दिवस पर बच्चों को किया जागरूक

फरीदाबाद (abtaknews.com) 31 मई,2017 ; विश्व धूम्रपान निषेध दिवस के अवसर पर आज सिंटेल स्किल डेवलोपमेन्ट सेन्टर, कनिष्क टावर, सेक्टर ३७  में सिंटेल स्किल डेवलोपमेन्ट सेन्टर के प्रबंधक सुशील वर्मा की अध्यक्षता में जागरूकता कार्यक्रम व् पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता  के रूप में राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के अंग्रेजी प्रवक्ता  रविंदर कुमार मनचंदा ने शिरकत की
सराय ख्वाजा के राजकीय आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के अंग्रेजी प्रवक्ता व् जूनियर रेड क्रॉस कॉउंसिलर रविंदर कुमार मनचंदा ने बताया कि एक अनुमान के अनुसार भारत में लगभग  दस करोड़ से भी ज्यादा लोग किसी न किसी रूप से तंबाकू का सेवन करते है तंबाकू के सेवन का सबसे आम तरीका धूम्रपान है और तम्बाकू धूम्रपान किया जाने वाला सबसे आम पदार्थ है। कृषि उत्पाद को अक्सर दूसरे योगज के साथ मिलाया जाता है और फिर सुलगाया  जाता है। परिणामस्वरूप भाप को सांस के जरिये अंदर खींचा जाता है फिर सक्रिय पदार्थ को फेफड़ों के माध्यम से कोशिकाओं  से अवशोषित कर लिया जाता है। सक्रिय पदार्थ तंत्रिका अंत में रासायनिक प्रतिक्रियाओं को शुरू करती है जिससे हृदय गति, स्मृति और सतर्कता और प्रतिक्रिया की अवधि बढ़ जाती है।डोपामाइन  और बाद में एंडोर्फिन  का रिसाव होता है जो अक्सर आनंद से जुड़े हुए हैं। विश्व में 2000 में धूम्रपान का सेवन कुछ 1.22 बिलियन लोग करते थे। पुरुषों में महिलाओं की तुलना में धूम्रपान की संभावना अधिक होती हैं तथापि छोटे आयु वर्ग में इस लैंगिक अंतर में गिरावट आती है। गरीबों में अमीरों की तुलना में और विकसित देशों के लोगों में अमीर देशों की तुलना में धूम्रपान की संभावना अधिक होती है। धूम्रपान करने वाले कई किशोरावस्था  में या आरंभिक युवावस्था के दौरान शुरू करते हैं। आम तौर पर प्रारंभिक अवस्था में धूम्रपान सुखद अनुभूतियां प्रदान करता है, सकारात्मक सुदृढ़ीकरण  के एक स्रोत के रूप में कार्य करता है। एक व्यक्ति में कई वर्षों के धूम्रपान के बाद परिहार  के लक्षण और नकारात्मक सुदृढ़ीकरण  उसे जारी रखने का प्रमुख उत्प्रेरक बन जाता है। उन्होंने बताया कि हमारे देश में करीब नौ लाख से भी अधिक लोग तंबाकू के सेवन के कारण मौत के गर्त में समा जाते है। युवा वर्ग को जागरूकता फैलानी होगी केवल तभी तंबाकू जनित बीमारियों से बचाव संभव हो पाएगा और स्वस्थ समाज की अवधारणा साकार हो पाएगी।
 इस अवसर पर उपस्थित युवाओं की पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिस में युवा रवि को प्रथम घोषित किया गया। मौके  पर सिंटेल स्किल डेवलोपमेन्ट सेन्टर की फेकल्टी सदस्य हर्ष बाला,  ज्योति गुप्ता, अनुराधा तथा प्रबंधक व् निदेशक सुशील वर्मा ने रविंदर मनचंदा का युवा शक्ति को तम्बाकू से होने वाले नुकसान से आगाह करने व् उन्हें जागरूक करने के लिए आभार व्यक्त किया। सुशील वर्मा ने सभी को शपथ दिलाई की वे कम से कम पांच पांच लोगो को धूम्रपान व् नशा छोड़ने के लिए प्रेरित करेंगे। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: