Saturday, May 13, 2017

सत्ता बदलने वाली प्याज के बुरे हाल, भाजपा मंत्री रिबन काटने में व्यस्त, आत्महत्या कर रहे हैं किसान


फरीदाबाद (abtaknews.com)13 मई,2017 ;  जिस प्याज ने दिल्ली में तख्तोताज बदल दिया, जिस प्याज ने पूरे देश को रुलाया आज वो ही प्याज सडकों पर चीख - चीखकर दुआई दे रही है अपने अंदर छुपी हुई खूबी को बताते हुए कह रही है कि मुझे खरीद लो,, पूरा  वाक्या फरीदाबाद का है जहां की सडकों पर ट्रैक्टर ट्रालियों में भरकर प्याज माईक सिस्टम के द्वारा बेची जा रही है, ये प्याज फरीदाबाद या हरियाणा की नहीं है बल्कि राजस्थान से लाई गई है जिसे सोहना के किसान राजस्थान से खरीदकर फरीदाबाद में मात्र 8 रूपये किलो में बेच रहे हैं, सोहना से फरीदाबाद करीब 35 किलोमीटर दूर आकर बेच रहे किसानों का कहना है कि फसल में लगाई गई लागात भी उन्हें नहीं मिल पा रही है। वहीं मार्किट कमेटी के चेयरमेन मुकेश शास्त्री ने अपने ही भाजपा नेताओं के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि उनके मंत्री औ सीपीएस रिबिन काटने में लगे हुए हैं किसानों की ओर किसा का ध्यान नहीं हैं।

सडक किनारे खड़े ट्रैक्टर -ट्रॉली पर आवाज लगा लगाकर प्याज बेचीं जा रही है जिसने कभी दिल्ली में सत्ता बदल दी थी पूरे देश को अपनी फितरत से रुलाया था आज ये खुद अपने आप पर आंसू बहा रही है, मंहगाई के दौर में प्याज सडकों पर माईक पर चिल्ला - चिल्ला कर कह रही है कि मुझे खरीद लो। बतों दें फरीदाबाद की सडकों पर राजस्थान से प्याज लाकर मात्र 8 रूपये में बेची जा रही है। 
इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए नरेन्द्र और शेरसिंह विक्रताओं ने अबतक न्यूज़ पोर्टल को  बताया कि वो राजस्थान से प्याज सोहना लेकर आ रहे हैं उसके बाद सोहना से करीब 35 किलोमीटर दूर फरीदाबाद में ट्रैक्टर ट्रॉली द्वारा सडकों और गलियों में घूम-घूमकर प्याज बेच रहे हैं, सबको मंहगाई की मार से रूलाने वाली ये प्याज आज खुद रो रही है क्योंकि 100 रूपये किलो तक बिकने वाली प्याज आज 8 रूपये में बिक रही है। जिससे किसानों को बहुत बडा नुक्सान झेलना पड रहा प्याज की फसल करने वाले किसानों की आज पूरे साल की मेहनत और खेत में लगी लागत भी नहीं मिल पा रही है। 

मार्किट कमेटी के चेयरमैन मुकेश शास्त्री ने अबतक न्यूज़ पोर्टल टीम को बताया कि फरीदाबाद से भाजपा नेता केन्द्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, केबिनेट मंत्री विपुल गोयल और सीपीएस सीमा त्रिखा के खिलाफ तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा उनके नेता रिबिन काटने में व्यस्त हैं और किसान की हालत दिन प्रतिदिन खस्ता होती जा रही है आज किसानों को पाई - पाई के लिये मोहताज होकर भीख मांगनी पड रही है कुछ किसान तो कर्जे में डूब जाने के बाद आत्महत्या भी कर रहे हैं जिसके जिम्मेदार उनके नेता है, सरकार को किसानों की फसल के लिये नीति बनानी चाहिये और ग्राहकों और किसानों के बीच में आने वाले मुनाफा खोरों को बंद कर सीधे टैक्स लगाकर खरीदना व बेचाना शुरू करना चाहिये। मार्केट कमेटी चेयरमैन मुकेश शास्त्री का गुस्सा यहीं नहीं समाप्त हुआ उन्होंने कहा कि शहर में भाजपा के मंत्रियों में बनी हुई गुटबाजी से भाजपा कार्यकताओं और आम जनता को नुक्सान हो रहा है इसलिये गुटबाजी खत्म कर मंत्रियों को जनता के विकास पर ध्यान देना चाहिये।


loading...
SHARE THIS

0 comments: