Friday, May 19, 2017

निवेश के नाम पर करोडों रूपए डकाराने वाले अब आएंगे सीबीआई के शिकंजे में


फरीदाबाद 19 मई,2017(abtaknews.com) हजारों लोगों के करोडों रूपए डकारने वाले फाइनेसंर व बिल्डर अब सीबीआई के शिंकजे में आने वाले है। स्थानीय पुलिस और प्रशासन के अलावा सत्ताधारी नेताओं की भूमिका की जांच भी इस मामलें में की जा सकती है। सूत्रा का कहना है कि केन्द्र सरकार के उच्च विभागों ने इस पर सज्ञान लेते हुए इस मामले की व्यापक जांच कराने का मन बनाया है और इसकी जांच सीबाआई को जल्द ही सुर्पद की जा सकती है। फरीदाबाद और एनसीआर में बिल्डरों ने फाईनेंस व प्रोजेक्ट में हिस्सेदारी देने का ऐसा जाल बिछाया कि इसमें अकेेले फरीदाबाद में 50 हजार से अधिक लोग फस गए। जिनमें ऐसे भी लोग है, अपने सेवानिवृति से लेकर पूरे जीवन की कमाई इनके पास लगा चुके है। वे लोग भी शामिल है, जो अपने रिस्तेदारों व दोस्तों की राशि विश्वास के तौर पर इनके पास निवेश कर चुके है कि काम आने पर मिल जायेगी। सोची समझी साजिश के तहत इन बिल्डर कम फाईनेंसरों ने लोगों के पैसे लौटाने से इंकार करते हुए घाटा दिखाना शुरू कर दिया। नम्बर दो में पैसे लगाने वाले तो खून का घूंट पीकर चूप हो गए, लेकिन जिन्होंने चैक व नम्बर एक में भुगतान किया था, वे अब सभी मिलकर खुलकर सामने आ रहे है।  इस पूरे मामले में एसआरएस और पियूष ग्रुप के निदेशक व चेयरमैन के खिलाफ एफआईआर से लेकर कोर्ट के वारंट तक निकल चुके है,लेकिन पुलिस प्रशासन चुप्पी साधे हुए है। इसके भी दो कारण है कि पुलिस को इतना मोटा चढ़ाव चढ गया है कि पुलिस की आंखे वास्तवक्तिा देख ही नहीं पा रही है और दूसरा राजनैतिक दबाव इतना  है कि पुलिस चाहते हुए भी ऐसे मामलों पर कार्रवाही नहीं कर पा रही है।
 बहराल मामला कुछ भी हो, लेकिन इस पूरे प्रकरण को सीबीआई अपने हाथ में लेने जा रही है। सूत्रों का कहना है कि इस पूरे प्रकरण में वे नेता और अधिकारी भी नंगे होंगें, जो इन फाईनेंसरों को बचाने का काम करते आएं है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: