Monday, May 15, 2017

नर्सिंग डे पर दिया, घायलों को जल्द अस्पताल पहुंचाने का संदेश


फरीदाबाद 15 मई,2017 (abtaknews.com ) सडक़ सुरक्षा एवं सुरक्षित स्कूल वाहन पॉलिसी के तहत समीरपाल सरो, आईएएस, उपायुक्त, फरीदाबाद के आदेशानुसार, आशुतोष राजन एचसीएस, सचिव आरटीए के दिशा निर्देशानुसार सडक़ सुरक्षा के नोडल अधिकारी डा0 एमपी सिंह ने माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों की पालना करने हेतु फ्लोरन्स कॉलेज ऑफ नर्सिंग, दयालपुर में नर्सिंग डे के अवसर पर यातायात सम्बन्धी नियमों की पालना कराने हेतु व घायलों के जीवन को बचाकर सुरक्षित अस्पताल पहुंचाने हेतु कार्यक्रम आयोजित किया गया। 
उक्त कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने कला, भाषण, रंगोली व नाटक आदि प्रतियोगिताओं में लगभग 500 ए.एन.एम., जीएनएम, बीएससी नर्सिंग की बालिकाओं ने भाग लिया और विजेताओं को डा0 एमपी सिंह ने पुरूष्कृत किया। उक्त कार्यक्रम में कॉलेज के प्रेसीडेन्ट, प्रो0 चरण सिंह व सेवानिवृत्त खण्ड शिक्षा अधिकारी श्रीमित मूर्ति ने आए हुए अतिथियों का फूल मालाओं से स्वागत किया और दीप प्रज्वलित करके व मां सरस्वती की आराधना से कार्यक्रम की शुरूआत की। 
डा0 एमपी सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा कि दुर्घटना स्थल पर रोगी की जान को बचाने के लिए 45 मिनट का समय होता है जिसमें हम उपयुक्त प्राथमिक सहायता देकर नजदीकी अस्पताल को पहुंचा देते हैं लेकिन कुछ लोग ज्ञान के अभाव में विक्टिम को हाथ नहीं लगाते है और पास से गुजर जाते हैं उनका मानना यह होता है कि पुलिस हमें अनावश्यक परेशान करेगी जबकि माननीय सुप्रीम कोर्ट का फैसला है कि जान बचाने वाला व्यक्ति या प्राथमिक सहायता देने वाला व्यक्ति यदि अस्पताल पहुंचाता है तो पुलिस उससे कोई पूछताछ जब तक नहीं करेगी तब तक वह स्वयं बताना ना चाहे। मानव जीवन अमूल्य होता है इसलिए विपत्ति काल में हमें उसका साथ व सहयोग देना चाहिए और अपने मानव धर्म को निभाना चाहिए। 
फ्लोरेन्स कॉलेज में नर्स का कोर्स कर रही बालिकाओं ने गोल्डन आवर व सडक़ सुरक्षा पर बहुत सुन्दर स्किट प्रस्तुत की और मोबाईल का दुरूपयोग करने वाले लोगों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उक्त अवसर पर बालिकाओं ने सीट बैल्ट लगाने व हेलमेट पहनने का संदेश भी नाटक के माध्यम से दिया। शराब के नशे में घायल हुए विक्टिम का उपचार करके अस्पताल पहुंचाया और सभी विद्यार्थियों ने उक्त कार्यक्रम का सम्पूर्ण लाभ उठाया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: