Friday, May 26, 2017

गीता का सन्देश,परमात्मा सर्वत्र व सर्वव्यापक है; स्वामी अडगडानंद महाराज



फरीदाबाद(abtaknews.com) 26 मई,2017; अनखीर स्थित परम हंस आश्रम में शक्तेषगढ़ (चुनार –राजपुर रोड , जिला मिर्जापुर यूपी ) से आये  स्वामी अडगडानंद जी महाराज ने यथार्थ गीता पर केन्द्रित सत्संग करते हुए कहा कि भगवान श्रीकृष्ण के श्री मुख से भाष्य श्रीमदभागवत गीता वह अनमोल, शाश्वत आदि धर्म ग्रन्थ है जिसकी महिमा अनादिकाल से बनी हुई है| सृष्टि के बने रहने तक गीता में वर्णित श्लोकों से धर्म की महिमा भी प्रतिपादित होती रहेगी| गीता का सन्देश विश्व में दूर दराज तक पहुंचा है कि परमात्मा सर्वत्र व सर्वव्यापक है | गीता योगेश्वर भगवान श्रीकृष्ण के मुखारविंद से नि:सृत अमरवाणी है | अट्ठारहवें अध्याय में भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि, “वह ईश्वर सम्पूर्ण भूतों अर्थात प्राणियों के ह्रदय में निवास करते हैं अतएव हृदय स्थित परमात्मा की शरण में जाने से सम्पूर्ण विकार नष्ट हो जाते हैं |
स्वामी  अडगडानंद जी महाराज ने प्रवचन के समापन पर कहा कि गीता भाष्य यथार्थ गीता को केंद्र सरकार राष्ट्रीय ग्रन्थ घोषित करे, जिससे भारतवर्ष सहित समूचे विश्व में सर्वधर्म समभाव सुद्रढ होगा एवं इसके पठन पाठन से नई पीढी  में सनातन संस्कृति के संस्कार आ जाएंगे |  परम हंस आश्रम से संबद्ध चिंतन्मयानंद  ने बताया कि आश्रम में स्वामी जी के दैनिक  प्रवचन रविवार तक जारी रहेंगे | इस अवसर पर हीरा लाल, जीतराम वशिष्ठ, कुलदीप , डिप्टी, अमित आजाद सिंह चौमुंडा, युगल किशोर शर्मा  सहित सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे | 

loading...
SHARE THIS

0 comments: