Thursday, May 18, 2017

कामरेड रोहिल्ला को मिल रहे समर्थन से निगम प्रशासन की फूलने लगी है सांसे


फरीदाबाद, 18 मई,2017 (abtaknews.com ) एक दो तीन चार - बन्द करो यह भ्रष्टाचार के बुलन्द नारों के साथ फरीदाबाद के नागरिक नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार और अनियमितताओं को रोकने और पूर्व में हुए घोटालों की सी.बी.आई. जांच की मांग को लेकर हाथों में तिरंगा लेकर जुलूस की शक्ल में नगर निगम मुख्यालय पर अनशनकारी बाबा रामकेवल, पदमश्री  डा.ब्रहमदत्त और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला  के द्वारा किये जा रहे सत्याग्रह का समर्थन करने पहुंचे।  फरीदाबाद की अनेकों सामाजिक संस्थाओं, जनसंगठनों, आर.डब्लयू.ए. और राजनैतिक दलों के कार्यकताआंे ने भी सत्याग्रह स्थल पर सत्याग्रहियों का जोरदार समर्थन किया। इधर सत्याग्रही अनशनकारी बाबा रामकेवल, पदमश्री डा. ब्रहमदत्त, आर.टी. आई. एक्टिविस्ट वरूण श्योकंद व निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला ने फरीदाबाद की जनता से आह्वान किया है कि फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार के विरोध में वे कल सायं 5 बजे निगम मुख्यालय से लेकर नीलम चैक तक निकाले जाने वाले शांति मार्च में बढ़-चढ़ कर भाग लें, क्योंकि यह आंदोलन अब जन आंदोलन बन चुका है और फरीदाबाद के 22 लाख लोगों के हित में है।
आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रणबीर चंदीला ने अपनी पार्टी की ओर से सत्याग्रह का समर्थन करते हुए कहा कि सरेआम लूट को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा और रोहिल्ला जैसे संघर्षशील अधिकारी के द्वारा शुरू किये संघर्ष का कंधे से कंधा मिलाकर के साथ दिया जायेगा और उन्होंने अन्य सभी दलों से भी इस पवित्र सत्याग्रह में कूदने की अपील की। मिशिन जाग्रति मिशिन के अध्यक्ष प्रवेश मलिक, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव और आल इंडिया स्टेट गर्वनमेंट ईम्पलाईज फैडरेशन के राष्टीय महासचिव सुभाष लाम्बा, बी.एस.एन.एल. ईम्पलाईज यूनियन के जिला सचिव महेन्द्र सिंह वर्मा और रिटायर्ड कर्मचारी संघ हरियाणा के नेता यू.एम. खान ने भी सत्याग्रह स्थल पर आकर अपने-अपने संगठनों की ओर से समर्थन व्यक्त किया।  सभी वक्ताओं ने सरकार को कहा कि वह इस आंदोलन को हल्के में न लें और आंदोलन के मुद्दों पर सी.बी.आई. या विशेष जांच दल से जांच करवायें।

अनशनकारी बाबा रामकेवल, पदमश्री डा.ब्रहमदत्त, निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला व जाने-माने आर.टी.आई. एक्टिविस्ट वरूण श्योकंद ने जोर देकर स्पष्ट किया कि यह आंदोलन नगर निगम में व्याप्त भ्रष्टाचार के विरूद्ध है और किसी को भी गलतफहमी नहीं होनी चाहिये कि यह रोहिल्ला के विरूद्ध है।  यह बात केवल इतनी मात्र है कि किसी ऐसे व्यक्ति को जो भ्रष्टाचार के विरूद्ध आवाज उठाता है उसकेा राजनेताओं, सामजिक कार्यकताओं, बुद्धिजीवियों, सरकार व प्रशासन का संरक्षण मिलना चाहिये न कि दमन की नीति चलानी चाहिये।  वक्ताओं ने कहा कि यह आंदोलन सरकार की ही सहायता कर रहा है कि इसी मुद्दे पर बनी है कि भ्रष्टाचार का उन्मूलन किया जायेगा और ऐसी सरकार के द्वारा एक ईमानदार अधिकारी का उत्पीड़न करना सरकार की कथनी और करनी में अंतर साबित करता है।  उन्होंने कहा कि जहां प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री ईमानदारी से भ्रष्टाचार मिटाना चाहते हैं वहीं उनके मंत्री व अधिकारी भ्रष्टाचारियों से लड़ने वालों का दमन करने पर तुले हुए हैं।

सत्याग्रह को जिन लोगों ने समर्थन दिया-- आम आदमी पार्टी के नेता रणबीर चंदीला, मंजू गुप्ता, उपकार सिंह, ब्रजेश नागर, एडवोकेट डी.के. वर्मा, राजन गुप्ता, रमेश अरोड़ा, नरेन्द्र सरोहा व रंजित चैहान, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा, जिला अध्यक्ष अशोक कुमार, हरियाणा पर्यटन कर्मचारी संघ के महासचिव युद्धवीर खत्री, बी.एस.एल.एल. ईम्पलाईज यूनियन के नेता महेन्द्र सिंह वर्मा, नित्यानंद शर्मा, आर.एस.चैहान अरूण कुमार, रिटायर्ड कर्मचारी संघ के नेता यू.एम.खान, धन सिंह अ़त्री, दीप चंद शर्मा, म्युनिस्पिल कारपोरेशन ईम्पलाईज फैडरेशन के अध्यक्ष रमेश कुमार जागलान, नगर निगम उद्यान श्रमिक यूनियन के प्रधान शाहाबीर खान, रण ंिसह भड़ाना, मास्टर रामस्वरूप, मिशिन जाग्ति मिशिन के अध्यक्ष प्रवेश मलिक


loading...
SHARE THIS

0 comments: