Tuesday, May 16, 2017

भ्रष्टाचार के खिलाफ कामरेड रतन रोहिल्ला के समर्थन में आये पद्मश्री अवार्डी डॉ ब्रह्मदत्त

 

फरीदाबाद, 16 मई,2017(abtaknews.com)आर.टी.आई. एक्टिविस्टस एंड सिटीजन व्याईस एसोसिएशन फरीदाबाद के मुख्य संरक्षक, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता  पदमश्री  डा. ब्रहमदत्त ने भ्रष्टाचार के विरोध में और फरीदाबाद नगर निगम के बुरी तरह से अव्यवस्थित हो चुके  सिस्टम को व्यवस्थित करने की निरंतर आवाज उठाने वाले निगम के अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला के द्वारा कल 17 मई से निगम मुख्यालय पर शुरू किये जाने वाले सत्याग्रह का पुरजोर समर्थन करते हुए रोहिल्ला के साथ सत्याग्रह पर बैठने का एलान किया है।  उन्होंने भ्रष्टाचार से त्रस्त शहर की सामाजिक संस्थाओं, जनसंगठनों, राजनेताओं और भ्रष्टाचार से त्रस्त सभी लोंगों को आह्वान किया है कि वे इस आंदोलन व सत्याग्रह का हिस्सा बनें।  इसके साथ ही उन्होंने नगर निगम के समस्त सिस्टम की केन्द्रीय जांच ब्यूरो या एस.आई.टी. बनाकर के जांच करवाने की मांग मुख्यमंत्री से की है।
 
डा. ब्रहमदत्त ने आज यहां जारी एक प्रैस विज्ञप्ति में बताया कि श्री रोहिल्ला  आज से नहीं अनेकों वर्षों से सिस्टम में रहकर सिस्टम में व्याप्त भ्रष्टाचार व अनियमितताओं के विरोध में निरंरतर आवाज उठाते रहे हैं, जिनके परिणामस्वरूप उन्हें अनेकों बार प्रशासनिक व राजनीतिक प्रताड़ना का शिकार होना पड़ा है।  उन्होंने बताया कि पिछले दिनों इन्हीं कारणों के चलते रोहिल्ला पर भ्रष्ट ताकतों के इशारों पर जानलेवा हमला भी हुआ था।  उन्होंने कहा कि श्री रोहिल्ला को सोशल मीडिया पर टेलिफोन पर निरंतर धमकियां मिलने की शिकायत करने के बावजूद उन्हें संरक्षण व सुरक्षा देने की बजाए फरीदाबाद से यमुनानगर स्थानान्तरित करने की कार्यवाही घोर निन्दनीय है और इसे सहन नहीं किया जायेगा।  डा. ब्रहमदत्त ने आरोप लगाया कि आर.टी.आई. के माध्यम से नगर निगम के अनेकों घोटाले उजागर होते रहे हैं और ऐसे में सिस्टम में बैठा व्यक्ति अपनी जान की बाजी तक लगा करके इन घोटालों के विरोध में बोल रहा है तो इसमें क्या गलत है और सरकार के द्वारा उसे क्यों तंग किया जा रहा है।

पदमश्री डा. ब्रहमदत्त के अनुसार रतन लाल रोहिल्ला को विभिन्न तरीकों से प्रताड़ित करके सरकार उसकी आवाज को बंद करना चाहती है, जो कि प्रधानमंत्री जी व मुख्यमंत्री की भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टोलरेंस पालिसी के विरूद्ध है। उन्होंने मांग की है कि रोहिल्ला के द्वारा उठाए जा रहे मामलों और समय समय पर आर.टी.आई.कार्यकताओं के द्वारा भ्रष्टाचार से सम्बन्धित मामलों की सरकार  सी.बी.आई.जांच के आदेश दे, रोहिल्ला के स्थानान्तरण आदेशों को रद्द करें और सरकार ये सुनिश्चित करें की रोहिल्ला को जान-माल को किसी प्रकार की हानि न होने पाए।  उन्होंनें बताया कि प्रयासरत हैं कि  उनके मिशन से सम्बन्धित सभी संस्थायें इस आंदोलन से जुड़ कर के इस आंदोलन को एक बड़ा जन-आंदोलन बनायेंगी।

loading...
SHARE THIS

0 comments: