Monday, May 15, 2017

नगर निगम भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहीम चलाने वाले का ट्रांसफर तुरंत रद्द हो ;- यूनियन

फरीदाबाद, 15 मई,2017(abtaknews.com ) फरीदाबाद नगर निगम के कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि भ्रष्टाचार के विरोध में निरन्तर आवाज उठाने वाले और बिना किसी भय व दबाब के पूर्णतया सरकार की नीतियों व कानून के तहत व्यापक जनहित में काम करने वाले यमुनानगर स्थानान्तरित किये गये निगम के स्थापना अधिकारी रतन लाल के स्थानान्तरण आदेशों को रद्द नहीं किया गया और उन्हें रिलीव किया गया तो निगम के कर्मचारी इसका डटकर विरोध करेंगे।  म्युनिस्पिल कारपोरेशन ईम्पलाईज फैडरेशन की कार्यकारिणी की आज यहां फैडरेशन कार्यालय में संपन्न हुई एक बैठक में इस आशय का निर्णय लिया गया है।  फैडरेशन अध्यक्ष रमेश कुमार जागलान की अध्यक्षता में संपन्न हुई इस बैठक में सरकार के इस निर्णय को तानाशाहीपूर्ण निर्णय बताते हुए इसकी भत्र्सना भी की गई।  बैठक में अन्य के इलावा फैडरेशन महासचिव महेन्द्र चैटाला, पूर्व प्रधान धन सिंह अत्री, कर्मी नेता शाहाबीर खान, लाला राम नरवत, नरेश बैंसला,  रण सिंह भड़ाना, टेक चंद सौरोत, अतर सिंह भड़ाना, दशरथ कुमार, रमेश पहलवान, कर्म चंद बघेल, महेन्द्रपाल, बनारसी राठी, अजय दुआ, धर्मबीर धामा, अशोक ठाकुर, निरंजन ठाकुर, सीता राम शर्मा आदि नेता उपस्थित थे।

फैडरेशन के अध्यक्ष रमेश कुमार जागलान व महासचिव महेन्द्र चैटाला ने बैठक के बाद यह जानकारी देते हुए बताया कि भ्रष्टाचार के विरोध में आवाज उठाने व नियमानुसार काम करने के कारण शरारती लोग रतन लाल रोहिल्ला को तंग करते रहते हैं।  पिछले दिनों भी एक भ्रष्टाचार के मामले का भंडाफोड़ करने के कारण इस अधिकारी पर जानलेवा हमला हुआ था।  उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ शरारती व भ्रष्ट लोगों ने अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति की खातिर श्री रोहिल्ला पर मिथ्या आरोप लगा कर के उच्चाधिकारियों व राजनेताओं को गुमराह करके नगर निगम के इस बेहद ईमानदार अधिकारी को प्रताड़ित करने के लिए उनका तबादला फरीदाबाद से बाहर करवाया है, जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।

फैडरेशन के अनुसार रोहिल्ला पर न केवल जानलेवा हमला हो चुका है, बल्कि इस हमले से पहले व बाद में भी उन्हें सोशल मीडिया व दूरभाष पर धमकियां दी जा रही है, जिसकी शिकायत श्री रोहिल्ला ने स्वयं 25 जनवरी और इसके बाद भी निग्मायुक्त व राज्य के मुख्यमंत्री को की हुई है।  फैडरेशन ने भी गत 15 मार्च को मुख्यमंत्री को प्रेषित एक विस्तृत पत्र में श्री रोहिल्ला के स्थानान्तरण की आशंका व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री से ऐसा न करने की अपील की थी, इसके बावजूद उनका स्थानान्तरण किया जाना भ्रष्टाचार मुक्त हरियाणा के सरकार के दावे पर सवालिया निशान लगाता है।  कर्मी नेताओं के अनुसार रोहिल्ला को सरकार के द्वारा सुरक्षा व संरक्षण देने की बजाए यमुनानगर स्थानान्तरित करके उनकी जान को खतरे में डालना चाहती है।  कर्मी नेताओं ने नगर निगम प्रशासन व पुलिस प्रशासन से अपील की है कि वह यह सुनिश्चित करें कि रतन लाल रोहिल्ला को किसी प्रकार की जान-माल की हानि न होने पाए।  फैडरेशन ने मुख्यमंत्री और शहरी स्थानीय निकाय मंत्री से अपील की है कि ईमानदार अधिकारियों को पूर्ण संरक्षण देते हुए रोहिल्ला के स्थानान्तरण आदेशों को अविलम्ब रद्द करें अन्यथा नगर निगम में सरकार की भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम को गहरा झटका लगेंगा।


loading...
SHARE THIS

0 comments: