Monday, May 29, 2017

फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार पर सत्याग्रह जारी

agitation-against-corruption-countinous-mcf-faridabad

फरीदाबाद, 29 मई,2017(abtaknews.com )फरीदाबाद नगर निगम में व्याप्त महाभ्रष्टाचार को रोकने और अतीत में हुए घोटालों की सी.बी.आई. या विशेष जांच दल से करवाने की मांग को लेकर भ्रष्टाचार विरोधी मंच के तत्वाव्धन में चल रहा सत्याग्रह आंदोलन आज तेहरवें दिन भी जारी रहा ।  अनशनकारी बाबा रामकेवल, सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त पदमश्री और निगम अधिकारी रतन लाल रोहिल्ला के सत्याग्रह का समर्थन में अन्य के इलावा एंटी करप्शन फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एम.पी.नागर, अभिभावक एकता मंच के कैलाश शर्मा व महेश अग्रवाल, रिटायर्ड कर्मचारी संघ के नेता धन सिंह अत्री, मंच के नेता धीरज हिन्दुस्तानी, फरीदाबाद नगर निगम बचाओ संघर्ष समिति के नेता देवेन्द्र अधाना, महेश कौशिक, सुरेश व रामरतन, कर्मी नेता शाहाबीर खान, रण सिंह भड़ाना, बनारसी राठी, सुरजीत नागर, दशरथ रेढ़ू, प्रमोद रोहिल्ला, किरन शर्मा, बिजेन्द्र, धीर सिंह, डबुआ गाजीपुर रोड़ के निवासीगण, समाज सेवी प्रमोद शर्मा, विराज, हरेन्द्र भाटी, प्रकाश, अमित व विवके कुमार एडवोकेट आदि भी सत्याग्रह पर बैठे।  कल 30 मई को रेजिडेन्ट वेलफेयर एसोसिएशन संजय गांधी मैमोरियल नगर की ओर से सत्याग्रह का समर्थन करते हुए धरना दिया जायेगा।
अनशनकारी बाबा रामकेवल व सर्वोच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता डा. ब्रहमदत्त ने कहा है कि निगम का छोटा कर्मचारी भ्रष्ट नहीं है, उनकेा इस्तेमाल किया जाता है वास्तव में बड़े अधिकारी भ्रष्ट हैं और इन बड़े अधिकारियों ने नगर निगम और शहर को बरबाद कर दिया है।  उनका आंदोलन इन्हीं भ्रष्ट अधिकारियों के विरूद्ध है न कि निगम के छोटे कर्मचारियों के विरूद्ध। उन्होंने कहा कि यदि यह भ्रष्टाचार इसी प्रकार से चलता रहा तो निगम के छोटे कर्मचारियों व अधिकारियों को सांतवे वेतन आयोग का लाभ मिलना तो दूर उन्हें वेतन व पैंशन तक के लाले पड़ जायेंगे और मूलभूत सुविधायें शहर की जनता से और अधिक दूर चली जायेगी।  उन्होंने क्षोभ व्यक्त करते हुए कहा कि एक ओर तो निगम के आला अधिकारी के कार्यालय के सौंदर्यीकरण पर बिना टैंडर व औपचारिकतायें पूरी कर लाखों रूपये की राशि गैरकानूनी रूप से खर्च की जा रही है वहीं निगम के छोटे कर्मियों के लिए बैठने तक की व्यवस्था सही नहीं और जनता सीवर, सफाई व जलापूर्ति तक की अति आवश्यक सुविधाओं से महरूम हैं।  उन्होंने कहा कि मंच का प्रतिनिधिमंडल केन्द्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गूर्जर, मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा, कैबिनेट मंत्री विपुल गोयल, विधायक नागेन्द्र भड़ाना, मूल चंद शर्मा व ललित नागर को ज्ञापन देकर  भ्रष्टाचार के मुद्दे पर जनहित में साथ देने की अपील करेगा और निगम के घोटालों की जांच करवाने के लिए अनुरोध करेगा।


loading...
SHARE THIS

0 comments: