Thursday, May 25, 2017

सेना द्वारा उडाये गये पाक के 12 बंकरों पर महायज्ञ करके किया जवानों को सलाम



फरीदाबाद 25  मई,2017(abtaknews.com ) पिछले माह 26 अप्रैल को फरीदाबाद अद्भुतधाम हनुमान मंदिर में चल रहे जनकल्याण हेतु त्रिपिण्डीश्राद्व और महायज्ञ को महात्माओं ने सुकमा नक्सली हमले में शहीद हुए देश के 25 जवानों की आत्मशांति के लिये समर्पित किया था जिसका असर हाल ही में भारतीय सैना द्वारा पाकिस्तान के 12 बंकरों को उडाने में देखा गया है, जिसपर मंदिर के आचार्य लक्ष्मीनारायन महाराज ने आज पंचम त्रिपिण्डीश्राद्व व महायज्ञ किया, जिसमें दर्जनों भक्तों ने अपने देश के जवानों के जज्बे के लिये पूजा अर्चना की। महायज्ञ के आयोजक लक्ष्मीनारायन ने कहा कि त्रिपिण्डीश्राद्व व महायज्ञ समस्त विश्व में शांति व जनकल्याण हेतु किया जा रहा है, इस बार उन्होंने भगवान से प्रार्थना की है कि पाकिस्तान जैसे आंतकवादी देशों के लोगों को सदबुद्धि दे ताकि भारत देश को आंतकवाद से बचाया जा सके। पिछले 4 माह से लगातार जनकल्याण हेतु समस्त विश्व की शांति के लिये फरीदाबाद के अद्भुत धाम हनुमान मंदिर सैक्टर 16 में विशाल त्रिपिण्डी श्राद्ध व महायज्ञ का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें दर्जनों भक्त अपने रूठे हुए पितृों को मना रहे हैं। इसी कडी में आज अमावस्या पर पंचम विशाल त्रिपिण्डी श्राद्ध व महायज्ञ का आयोजन किया गया। इस महायज्ञ के आयोजक महंत लक्ष्मीनारायण महाराज पीठाधीश्वर ने बताया कि आयोजित किये जाने वाला आज का पंचम त्रिपिंडी श्राद्ध महायज्ञ है जिसमें भक्तों और पंडितों ने देश के जवानों के जज्बे को सलामत रखने और उसमें बढोत्तरी करने के लिये पूजा अर्चना की है। आचार्य ने बताया कि पिछले माह चतुर्थ त्रिपिंडी श्राद्ध महायज्ञ को सुकमा नक्सली हमले में शहीद हुए देश के 25 शहीदों की शहादत के लिये समर्पित किया था, जिसका असर इस माह हाल ही में जवानों द्वारा पाकिस्तान की 12 बंकरों को उडाते समय देखा गया है। उनके द्वारा करवाये जा रहे महायज्ञ का उद्देश्य समस्त विश्व के कल्याण और पाकिस्तान जैसे आंतकवाद देश के लोगों को सदबुद्धि प्रदान करने के लिये भगवान से एक प्रार्थना करना है। आचार्य ने बताया कि  जनकल्याण और पितृदोष निवारण हेतु किया जा रहा है त्रिपिंडी श्राद्ध महायज्ञ प्रतिमाह किया जाता है जो 9 माह तक लगातार किया जायेगा। ये महायज्ञ देश में ही नहीं बल्कि पूरे भूमण्डल में पहला ऐसा महायज्ञ हैं जिसमें अपने पितृों के लिये त्रिपिण्डी श्राद्ध किया है। पंडितों ने एक साथ मंत्राच्चरण के साथ श्राद्ध करवाया। इस महायज्ञ का उद्देश्य बताते हुए महाराज ने कहा कि अचानक आने वाली प्राकृतिक आपदाओं की शांति के लिये, संसार में हो उपद्रवों को रोकने और लोगों की भ्रमित बुद्धि को ठीक करने के लिये महायज्ञ किया जा रहा है। इस महायज्ञ का आयोजन महंत श्री लक्ष्मीनारायण जी महाराज पीठाधीश्वर ने करवाया, जिसमें बनारस से यज्ञाचार्य श्री सुरेंद्र पांडेय जी, इलाहाबाद से श्री उमा शंकर जी मिश्र एवं यज्ञ मंडप में श्री विवेक शास्त्री श्री मोहित शास्त्री श्री पंकज मिश्रा श्री अतुल द्विवेदी श्री विकास पांडे श्री सौरभ चतुर्वेदी श्री जगदीश शर्मा जी सहित दर्जनों भक्तों ने हिस्सा लिया।

loading...
SHARE THIS

0 comments: