Sunday, April 9, 2017

लावारिस लाशो का विधि पूर्वक दाह संस्कार से पूर्व गंगाजल और दूध से धोया


फरीदाबाद (abtaknews.com ) : पिछले 30 सालो से फरीदाबाद और पलवल जिले की लावारिस लाशो का विधि पूर्वक दाह संस्कार करने वाली फरीदाबाद की संस्था " श्री शक्ति सेवा दल " ने आज साल भर की  186 लावारिस लाशो की अस्थियो को  हरिद्वार विसर्जन के लिए भेजने से पहले  विधिवत रूप से गंगाजल और दूध से धोया । इस मौके पर फरीदाबाद की मेयर सुमन बाला के अलावा समाजिक संस्थाओ के कार्यकर्ता मौजूद थे जिन्होंने मिलकर इन लावारिस अस्थियो को दूध गंगाजल से धोया और उनकी आत्मा की शान्ति के लिए प्रार्थना की। आज जहाँ अपने अपनों से दूर होते जा रहे है वहीँ पिछले तीस साल से श्री शक्ति सेवा दल संस्था लावारिस लाशो के जहाँ दाह संस्कार करवा रही है। 
इस संस्था द्वारा सालभर की एकत्रित की गयी अस्थियो को हर साल वैसाखी पर हरिद्वार में विसर्जित भी किया जा रहा है.  दूध और गंगाजल से अस्थियो को धो रहे दिखाई दे रहे यह कार्यकर्ता फरीदाबाद की संस्था श्री शक्ति सेवा दल के है जो साल भर की इकठ्ठी की गई लावारिस लाशो की अस्थियो को हरिद्वार  भेजने के लिए यहाँ इकठ्ठा हुए है 1980 से यह संस्था लावारिस लाशो संस्कार का बीड़ा उठाये हुए है और पिछले 30 सालो में यह संस्था अब तक हजारो लावारिस लाशो का  दाह संस्कार कर चुकी है और उन्हें हरिद्वार में
विसर्जित कर चुकी है.   यह संस्था हर साल बैसाखी के मौके पर साल भर की लावारिस लाशो की अस्थियो को गंगाजल से धोकर हरिद्वार विसर्जन के लिए भेजते है संस्था के उप प्रधान ने बताया की उनकी संस्था साल भर में मिलने वाली सड़ी-गली लावारिस लाशो को उठाती है और उनका रीती-रिवाज़ के अनुसार दह-संस्कार कर उनकी अस्थियो को साल भर संभाल कर  रखती और हर साल वैसाखी
के अवसर पर हरिद्वार जाकर उनका विसर्जन किया जाता है। 
इस मौके पर पहुंची फरीदाबाद की मेयर सुमन बाला ने संस्था के कार्यकर्ताओ की तारीफ़ करते हुए कहा की यह संस्था लावारिस लाशो का दाह संस्कार तो करती ही है बल्कि हिन्दू रीतिरिवाज के हिसाब से उन्हें मोक्ष की प्राप्ति करवाने के लिए अस्थियो को हरिद्वार में विसर्जित भी करवाती है. उन्होंने कहा की आज उन्हें यहाँ आकर बहुत शान्ति मिली है जो कभी उन्हें पूजा पाठ में भी नहीं मिली। उन्होंने अन्य संस्थाओ से भी अपील की कि वह भी आगे आये और इंसानियत का काम करे.

loading...
SHARE THIS

0 comments: