Thursday, April 6, 2017

गुड़गांव के बाद फरीदाबाद में अपने ऐप पर लाॅन्च की ‘ओला बाईक’



फरीदाबाद(abtaknews.com)6 अप्रैल 2017ः परिवहन के लिए भारत के सबसे लोकप्रिय मोबाइल ऐप ओला ने आज फरीदाबाद में अपने ऐप पर बाईक के लाॅन्च की घोषणा की है। इस लाॅन्च के साथ अब ओला उत्तरी भारत के प्रमुख ओद्यौगिक केन्द्र को लास्ट माईल कनेक्टिविटी के साथ भरोसेमंद परिवहन सेवाएं उपलब्ध कराएगी। कम्पनी ने अगले कुछ महीनों में शहर में 500 से ज़्यादा बाइकें उपलब्ध कराने की योजना बनाई है। ओला फरीदाबाद में परिवहन के कई स्मार्ट विकल्प उपलब्ध कराती है जिसमें कैब जैसे ‘सीडैन’ और ‘मिनी’, ‘आॅटो’, ‘ओला शेयर’, ‘ओला आउटस्टेशन’, ओला रेंटल’ और अब ‘ओला बाईक’ शामिल है।

सरकार के ‘स्मार्ट सिटी मिशन’ के लिए चुना गया फरीदाबाद हरियाणा का सबसे ज़्यादा आबादी वाला शहर है। ओद्यौगिक हब होने के नाते फरीदाबाद के लोगों को लगभर रोज़ाना नई दिल्ली, गाज़ियाबाद, गुड़गांव एवं हरियाणा के अन्य शहरों तक की यात्रा करनी पड़ती है। जिसके चलते शहर में टैªफिक जाम और वाहनों के कारण होने वाले प्रदूषण की समस्या दिन-बदिन बढ़ती जा रही है। ऐसे में ओला बाईक की तरह का स्मार्ट समाधान शहर की भीड़ के बीच यात्रियों को किफ़ायती दरों पर परिवहन सुविधाएं उपलब्ध कराएगा और उनकी लास्ट-माईल कनेक्टिविटी की ज़रूरत को पूरा करेगा। 

इस मौके पर ओला में नोर्थ के बिजनेस हैड दीप सिंह कहा, ‘‘हमें खुशी है कि हम फरीदाबाद में ओला बाईक का लाॅन्च करने जा रहे हैं, जो हरियाणा का प्रमुख ओद्यौगिक केन्द्र एवं राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का महत्वपूर्ण शहर है। भारत में 150 मिलियन से ज़्यादा पंजीकृत दोपहिया वाहन हैं और मोटरसाइकलों के उत्पादन की बात करें तो देश इस दृष्टि से दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। ऐसे में ओला बाईक तेज़ी से विकसित होती इस श्रेणी में जल्द ही अपनी जगह बना लेगी, साथ ही यह लाखों भारतीयों को रोजगार के अवसर भी प्रदान करेगी और उन्हें उद्यमिता की दिशा में पहला कदम बढ़ाने में मदद करेगी।’’

उन्होंने अपनी बात को जारी रखते हुए कहा, ‘‘हरियाणा सरकार के साथ कम्पनी के एक समझौता ज्ञापन के बाद ओला ऐप पर बाईक का लाॅन्च किया गया है, जिसके तहत राज्य के नागरिकों को परिवहन के आधुनिक विकल्प उपलब्ध कराए जाएंगे। ओला की बाईक फरीदाबाद में पहले 3 किलोमीटर के लिए 20 रु बेस फेयर के साथ 5 रु प्रति किलोमीटर पर उपलब्ध हैं, ऐसे में ये छोटी दूरी के लिए बेहद कारगर साबित होंगी।’’

फरीदाबाद में ओला बाईक के ड्राइवर -पार्टनर परवेश ने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि मैं फरीदाबाद में कुछ पहले ओला बाईक चालकों में एक हूँ। ओला ने मुझे ऐप और यात्रियों के बारे में अच्छा प्रशिक्षण दिया है; और मुझे उम्मीद है कि ओला प्लेटफाॅर्म पर बाईक चलाने से मेरी कमाई बेहतर हो जाएगी। मुझे विश्वास है कि इससे मुझे कारोबार के भी अच्छे अवसर मिलेंगे क्योंकि ओला पर उपभोक्ताओं का नियमित प्रवाह रहता है और मैं कीमतों पर मोल-भाव करने के बजाए ठीक से अपनी ड्यूटी कर सकूंगा, जिससे मेरा समय भी बर्बाद नहीं होगा।’’

गुड़गांव में ओला बाईक के ड्राइवर-पार्टनर मेघ राज ने कहा, ‘‘मुझे खुशी है कि मैं गुड़गांव में ओला के साथ जुड़ा हूँ। शहर के लोग बाईक से यात्रा करना बहुत पसंद करते हैं। मैं पिछले एक साल से ओला के साथ जुड़ा हुआ हूँ और इस दौरान मेरी रोज़ाना की कमाई काफी बढ़ी है। ओला बाईक की सबसे अच्छी बात यह है कि हमें सवारी ढूंढने के लिए समय बर्बाद नहीं करना पड़ता क्योंकि बुकिंग खुद-बखुद मोबाइल ऐप पर आ जाती है। उपभोक्ताओं से भी मुझे बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है।’’

गुड़गांव में एक साल की कामयाबी के बाद, फरीदाबाद हरियाणा का दूसरा शहर है जहाँ लोग ओला प्लेटफाॅर्म पर ओला बाइक की सवारी का लुत्फ़ उठा सकते हैं। वर्तमान में ओला प्लेटफाॅर्म पर 800 से ज़्यादा बाइकें हैं, पिछले एक साल में यह संख्या तेज़ी से बढ़ी है। यातायात की समस्याओं के लिए विख्यात मिलेनियम सिटी में ओला बाईक सबसे पसंदीदा स्मार्ट एवं स्थायी परिवहन विकल्प के रूप में उभरी है।

ओला बाईक कैसे काम करती है?
ओला बाईक ओला ऐप पर एक अलग कैटेगरी के रूप में दिखाई देती है। यात्री ओला बाईक को ठीक उसी तरह बुक कर सकते हैं, जैसे वे किसी अन्य कैटेगरी में बुकिंग करते हैं। पिक-अप लोकेशन के आधार पर नज़दीकी ओला बाईक यात्री के सम्पर्क में आती है, इसके अलावा इसमें ओला के अन्य सभी मुख्य फीचर्स जैसे ड्राइवर का विवरण, राईड टैªकिंग, इन-ट्रिप नेविगेशन, एसओएस बटन, आॅफलाईन बुकिंग, ओला मनी के माध्यम से आसान भुगतान, लोकेशन और मैपिंग इनोवेशन जैसे- हाॅटस्पाॅट और शेयर डायरेक्शन्स आदि सभी उपलब्ध हैं। एक समय में एक ही व्यक्ति बाईक की सवारी कर सकता है।
 बाईक चालकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए ओला ऐप को अंग्रेज़ी, हिंदी, बंगाली, गुजराती, कन्नड, मराठी, तमिल एवं तेलुगू सहित 9 भारतीय भाषाआंे में पेश किया गया है, जिससे स्थानीय चालक बड़ी आसानी से इस ऐप का इस्तेमाल कर सकतें हैं। 
ओला के बारे में

जनवरी 2011 में आईआईटी बाॅम्बे के पूर्वछात्रों भाविश अग्रवाल एवं अंकित भाटी के द्वारा स्थापित ओला  (पहले ओलाकैब्स के नाम से जाना जाता था) निजी परिवहन के लिए भारत का अग्रणी मोबाइल ऐप्लीकेशन है। ओला उपभोक्ताओं को सुविधाजनक, पारदर्शी एवं त्वरित सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए मोबाइल प्रोद्यौगिकी मंच पर उपभोक्ताओं और ड्राइवरों के लिए शहर की परिवहन प्रणाली को समेकित करता है। ओला लाखों लोगों को सुविधाजनक परिवहन सेवाएं उपलब्ध कराने के अपने मिशन की दिशा में प्रतिबद्ध है। ओला मोबाइल ऐप का इस्तेमाल करते हुए उपयोगकर्ता 102 से ज़्यादा शहरों में 450,000 से अधिक कैब्स, आॅटो रिक्शाॅ एवं टैक्सियों की बुकिंग कर सकते हैं। ओला ने यात्रा एवं राईड शेयरिंग के लिए अपने प्लेटफाॅर्म पर शेयर्ड मोबिलिटी सेवाओं की एक रेंज पेश की है जिनमें ओला शटल और ओला शेयर शामिल हैं। यह ऐप विन्डोज़, एन्ड्रोइड और आईओएस प्लेटफाॅर्म पर उपलब्ध है। अधिक जानकारी के लिए विज़िट करेंः ूूूण्वसंबंइेण्बवउ  या ीजजचेरूध्ध्ूूूण्वसंबंइेण्बवउध्उमकपं  


loading...
SHARE THIS

0 comments: