Wednesday, April 19, 2017

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी करेंगी उद्योग मंत्री विपुल गोयल के प्रोजेक्ट पंछी की शुरूआत


फरीदाबाद 19 अप्रैल,2017(abtaknews.com )पीएम नरेंद्र मोदी के डिजीटल इंडिया अभियान को आगे बढ़ाते हुए हरियाणा में डिजीटल रैली की शुरूआत करने वाले राज्य के उद्योग एवं वाणिज्य मंत्री विपुल गोयल अब प्रॉजेक्ट पंछी शुरू करने जा रहे हैं। हरियाणा में अपनी तरह का यह पहला और अनूठा प्रयास होगा। प्रॉजेक्ट पंछी की शुरूआत 22 अप्रैल को  सुबह 11 बजे एम सी एफ ऑडिटोरियम, एन आई टी फरीदाबाद से होगी। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री तथा पीपल फॉर एनिमल्स की अध्यक्ष मेनका गांधी इसकी शुरूआत करेंगी। शहरों में बढ़ती आबादी, घटते जंगलों की वजह से कम हो रही चिडिय़ा की चहचहाट और कोयल की कू-कू को वापस लाने के उद्देश्य के साथ विपुल गोयल ने यह शुरूआत करने का फैसला लिया। इस मुहिम  की शुरूआत भी फरीदाबाद शहर से ही होगी। फरीदाबाद को औद्योगिक नगरी कहा जाता है, ऐसे में यहां पर्यावरण प्रदूषण की समस्या के चलते भी पक्षियों की संख्या घट रही है। 22 अप्रैल को गोयल फरीदाबाद के लोगों को मिट्टी के बर्तन यानी वाटर हैंगिग पॉट मुहैया करवाएंगे। इसके लिए बाकायदा रजिस्ट्रेशन होगा और पॉट लेने वाले लोगों से एक शपथ-पत्र लिया जाएगा। इस पॉट को नागरिक अपने घरों में लगाएंगे और इसमें रोजाना पानी भरेंगे ताकि गर्मी के दिनों में प्यासे पक्षियों को पीने का पानी मिल सके। गोयल का कहना है कि बड़ी संख्या में पक्षियों की मौत पानी नहीं मिलने की वजह से भी होती है। इसी को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद शहर के पार्कों में ऐसी जगह चिह्नित की जा रही हैं, जहां पक्षियों के लिए दाना डाला जा सके। पार्कों में हरियाली की वजह से यहां पक्षी तो आते हैं लेकिन उन्हें खाने को कुछ नहीं मिलता। इस वजह से प्रदेशभर में पार्कों में भी पक्षियों की संख्या कम होती जा रही है। दाना डालने वाली जगहों की सफाई भी हुआ करेगी ताकि वहां गंद न फैले। उद्योग मंत्री ने बताया कि साथ ही साथ लोगों को घोंसले दिए जाएंगे ताकि वे उन्हें अपने घरों में लगा सकें। घरों में घोसले होंगे तो वहां पक्षी रुकना शुरू कर सकते हैं। इस मुहिम के साथ सामाजिक संस्थाओं को भी जोडऩे की तैयारी है। गोयल ने कहा, जब मैं चंडीगढ़ आता हूं तो यहां पक्षियों की चहचहाट सुनकर बड़ा अच्छा लगता है। राज्य के गांवों में बेशक पक्षियों की आवाज सुनने को मिल जाती है लेकिन शहरों में चिडिय़ा की संख्या भी लगातार कम हो रही है। कोयल तो कभी-कभार ही नजऱ आती है। इसी को देखते हुए यह मुहिम शुरू करने का निर्णय लिया गया है। गोयल ने कहा कि इस मुहिम के दौरान लोगों से आह्वान किया जाएगा कि वे शहरों में अधिक से अधिक पौधरोपण करें ताकि हरियाली बढऩे से पक्षियों की संख्या भी बढ़ सके।

loading...
SHARE THIS

0 comments: