Tuesday, April 11, 2017

फीस वृद्धि का विरोध करने वाले अभिभावकों के बच्चों का उत्पीड़न अमानवीय व्यवहार ; कैलाश


फरीदाबाद 11 अप्रैल,2017(abtaknews.com ) निजी स्कूलो में जारी मनमानी व उनकी फीस वृद्धि का विरोध कर रहे अभिभावकों के बच्चों को ढाल बनाकर उनके साथ किए जा रहे अमानवीय व्यवहार को लेकर हरियाणा अभिभावक एकता मंच ने प्रधानमंत्री, केन्द्रीय मंत्री, शिक्षा मंत्री, चेयरमैन सीबीएसई व चेयरमैर बाल अधिकार आयोग को पत्र लिखकर हरियाणा के छात्र व अभिभावकों की मदद करने व दोघी स्कूलों के खिलाफ उचित कार्यवाही करने की मांग की है। मंच के जिलाध्यक्ष शिवकुमार जोशी एडवोकेट व सचिव डप. मनोज शर्मा ने कहा है कि हियाणा में मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने जब से यह कहा है कि बच्चों के भविष्य की खातिर अभिभावक स्कूल प्रबंधकों से समझोता कर ले तब से जिले के अधिकारी भी वही भाषा बोलने लगे है अधिकारी अभिभावकों की मदद करने की जगह बीच का रास्ता निकालने की बात कह रहे हैं जो नियम कानून शिक्षा के व्यवसायीकरण को रोकने के लिए बने हुए है अधिकारी उन्हें देखने को तैयार नही हैंं इसी के चलते स्कूल प्रबंधकों के हौसलें बुलंद है वो मासूम बच्चों को आगे करके अभिभावकों को बड़ी हुई फीस जमा करने के लिए मजबूर कर रहें हैं । डा. मनोज शर्मा ने बताया कि स्कूल प्रबंधकों की इस हटधर्मी व उनकों नेता व अधिकारियों के मिल रहें खुले सरक्षण के विरोध में जन आदोलन चलाने की रणनिति तय हेतू मंच की जिला कमेटी व सभी स्कूलों की पैरेंन्टस एसोसिएशन के पदाधिकारियों की एक महत्वपूर्ण बैठक गुरूवार 13 अप्रैल को सांस 7 बजे सैक्टर 10 में बुलाई गर्द है। मंच के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट ओ.पी. शर्मा व प्रदेश महासचिव कैलाश शर्मा ने कहा है कि भाजपा शाषित राज गुजरात,उत्तप्रदेश, महाराष्ट, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में वहां के मुख्यमंत्री जनहित के इस मुद्दे पर काफी गंभीर हैं लेकिन हरियाणा के मुख्यमंत्री इस मुद्दे पर कुछ  करने की जगह अभिभावकों को स्कूल प्रबंधकों से समझोता करने की बात कह रहे हैं इससे अभिभावकों में काफी रोष है उन्होंने आगे कहा है कि इस महत्वपूर्ण विषय पर आंदोलन चलाकर आम आदमी से सांसद, मंत्री व विधायक बने कृष्णपाल गुर्जर, मूलचंद शर्मा व टेकचंद शर्मा भी आज पूरी जरह से मौन साधे हुए  हैं और छात्र व अभिभावकों के हित में एक शब्द भी नहीं बोल रहें हैं इससे उनके क्षेत्र के अभिभावक भी काफी रोष में हैं।


loading...
SHARE THIS

0 comments: