Wednesday, April 19, 2017

मंच ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निजी स्कूलों की लूटखसोट पर उनके आगरा में दिए बयान को याद दिलाया


फरीदाबाद 19 अप्रैल ,2017(abtaknews.com ) हरियाणा अभिभावक एकता मंच ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके आगरा में दिये गये बयान की याद दिलाते हुये कहा है कि वे निजी स्कूलों की लूटखसोट व मनमानी विषय पर गरीब व मध्यम परिवारों को राहत प्रदान कराए। मंच ने प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि एक ओर भाजपा षासित राज्य गुजरात, महाराश्ठ, राजस्थान, उत्तर प्रदेष में वहां के मुख्यमंत्रियों ने षिक्षा के व्यवसायीकरण को रोकने के लिये ठोस कार्यवाही की है, जबकि दूसरी ओर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल अभिभावकों को निजी स्कूलों की लूटखसोट व मनमानी से बचाने के जगह उन्हें सलाह दे रहे है कि वह अपने बच्चों के भविश्य की खातिर स्कूल प्रबंधकों से समझोता कर लें। मंच के प्रदेष महासचिव कैलाष षर्मा ने बताया कि मंच ने अपने पत्र में प्रधानमंत्री से कहा है कि जबसे मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने यह बयान दिया है जबसे स्कूल प्रबंधकों ने और अधिक लूटखसोट व मनमानी षुरू कर दी है। हरियाणा के मंत्री, सांसद, विधायक सभी का संरक्षण स्कूल प्रबंधकों को मिला हुआ है। इतना ही नहीं अभिभावक अपनी फरियाद लेकर जब जिले के उपायुक्त, हुडा प्रषासक व जिला षिक्षा अधिकारी के पास जाते है तो वे यह कहते है कि जब राज्य का मुख्यमंत्री स्कूलों से समझोता करने की बात कहता है ऐसे में हम लूटखसोट व मनमानी कर रहे स्कूल प्रंबधकों के खिलाफ केसे उचित कार्यवाही कर सकते है। मंच के जिला अध्यक्ष एडवोकेट षिव कुमार जोषी व डा0 मनोज षर्मा ने कहा कि पत्र में प्रधानमंत्री के आगरा में 20 नवम्बर 2016 को  आयोेजित महा परिवर्तन रैली में उनके दिये गये इस बयान कि आज जब गरीब और मध्यम वर्ग के लोग बच्चों को प्रवेश दिलाने स्कूल जाते हैं तो उनसे नोट मांगे जाते हैं। ऐसे में इन्हें अपना सफेद धन भी काला करके देना पड़ता है। नहीं देते तो बच्चों को प्रवेश नहीं मिलता। पर अब यह व्यवस्था नहीं चलेगी। इसके लिए सरकार उपाय करने जा रही है।उनके इस बयान के बाद अभिभावकों को यह आस जगी थी कि अब जरूर अभिभावकों को षिक्षा के व्यवसायीकरण से मुक्ति मिलेगी लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हो पाया है अतः वे अपने वायदे को याद करके षीघ्र ही ऐसी कार्यवाही करे जिससे अभिभावकों को निजी स्कूलों की लूटखसोट व मनमानी से बचाया जा सके।

loading...
SHARE THIS

0 comments: