Sunday, April 16, 2017

तीन माह से पीने के पानी की समस्या से जूझ रहे है एक नंबर ए ब्लाक निवासी


फरीदाबाद(abtaknews.com) नगर निगम की लापरवाही के चलते एक नंबर ए ब्लाक के सैकड़ों निवासी इन दिनों मूलभूत सुविधाओं की दिक्कतों से जूझने को मजबूर हो रहे है। करीबन तीन माह से पानी की किल्लत होने के कारण पिछले दिनों पानी की लाईन डालने के लिए हुई खुदाई के दौरान जेसीबी चालक की लापरवाही के चलते लोगों को जहां भारी नुकसान उठाना पड़ा वहीं उन्हें मौलिक सुविधाओं की कमी भी झेलनी पड़ रही है। गौरतलब है कि एनआईटी के एक नंबर ए ब्लाक में पानी की किल्लत को लेकर पानी की लाईन की मंजूरी मुख्य संसदीय सचिव श्रीमती सीमा त्रिखा द्वारा करवाई गई थी और बाद में पानी की लाईन डालने हेतु खुदाई की गई थी। खुदाई के दौरान जेसीबी चालक ने इस कद्र लापरवाही बरती की लोगों की टेलीफोन की तारें, सीवरेज के पाईप व पानी की पाईपें भी उखाड़ दिए, जिसके चलते लोगों को इन सुविधाओं से महरूम होना पड़ा रहा है। करीब तीन माह से इस ब्लाक के करीब 80 मकानों में रहने वाले लोग पानी की किल्लत के साथ-साथ सुविधाओं से जूझ रहे है। स्थानीय निवासी एवं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सरदार परमजीत सिंह गुलाटी ने कहा कि जेसीबी चालक व पलम्बरों की इस कद्र सांठगांठ है कि जेसीबी चालक पहले मकान मालिक की पानी की लाईन तोड़ता है और बाद में पलम्बर उस लाईन को ठीक करने के लिए उनसे सौदा तय करता है। ऐसे अनेकों मामले है, जिसमें पलम्बरों की मनमानी के आगे लोगों को झुकना पड़ रहा है वहीं उन्होंने आरोप लगाया कि उक्त पलम्बर किसी भी बाहरी पलम्बर को यहां काम नहीं करने देते है और जब इसकी शिकायत निगम अधिकारियों से की जाती है, तो वह भी उक्त पलम्बरों का समर्थन करते है। श्री गुलाटी ने कहा कि भाजपा के मंत्री व विधायक उद्घाटन करके झूठा श्रेय तो लूट लेते है परंतु बाद में इन उद्घाटनों पर कितना काम होता है, इसकी सुध तक नहीं लेते है। उन्होंने कहा कि आज केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार विराजमान है परंतु नगर निगम आज भी भष्टाचार का अडडा बना हुआ है और अधिकारी व कर्मचारी अपनी मनमानियों से बाज नहीं आ रहे है। उन्होंने नगर निगम प्रशासन से मांग की कि वह जेसीबी चालक के खिलाफ लापरवाही का मुकदमा दर्ज कराए और लोगों को जल्द से जल्द मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाए अन्यथा लोग नगर निगम कार्यालय पर प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे।


loading...
SHARE THIS

0 comments: