Friday, April 14, 2017

महिलाओं को शादी या तलाक़ के बाद पासपोर्ट में नाम बदलवाने की ज़रूरत नहीं ; नरेंद्र मोदी


pm-modi-adress-for-women-Empowerment
नई दिल्ली(abtaknews.com) 14 अप्रैल,2017 ; महिला सशक्तिकरण को समर्पित भारतीय जनता पार्टी के केंद्र की सरकार देश के तपस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करिश्माई नेतृत्व में आये दिन लिए जा रहे क्रन्तिकारी फैंसलों  के लिए हमेशा मीडिया की सुर्खिओ में रहती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महिलाओं की सहूलियत से जुड़ा एक बड़ा ऐलान किया है. उन्होंने गुरुवार को कहा कि महिलाओं को अब शादी या तलाक़ के बाद पासपोर्ट में अपना नाम बदलवाने की ज़रूरत नहीं है और वे अपने माता या पिता, दोनों में से किसी एक का भी नाम देकर पासपोर्ट बनवा सकती हैं.
दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्योग संगठन इंडियन मर्चेंट्स चैंबर के महिला प्रकोष्ठ के एक समारोह को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से संबोधित करते हुए कहा, 'पासपोर्ट नियमों में महत्वपूर्ण बदलाव किया गया है. अब किसी भी महिला को अपनी शादी या तलाक़ का प्रमाण पत्र देना ज़रूरी नहीं होगा. अब ये उसके ऊपर निर्भर करता है और वह पासपोर्ट पर अपने पिता या माता का नाम रखना चाहती है या फिर अपने पति का। 
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि महिलाओं को शादी या तलाक़ के बाद पासपोर्ट में नाम बदलवाने की ज़रूरत नहीं।  इसके अलावा उन्होंने कुछ योजनाएं गिनाईं. इनमें 70 प्रतिशत मुद्रा लोन महिला उद्यमियों को दिये जाने की योजना भी शामिल थी। मोदी ने कहा कि उनकी सरकार की प्राथमिकता है कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनाये जा रहे घरों की रजिस्ट्री उस परिवार की किसी महिला के नाम पर हो. पीएम मोदी ने कहा कि सरकार ने उज्ज्वला योजना के तहत मुफ़्त गैस कनेक्शन देकर अब तक दो करोड़ महिलाओं को चूल्हों के नुकसानदायक प्रभावों से बचाया है. उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत सरकार अगले दो सालों में पांच करोड़ और परिवारों को जोड़ना चाहती है. देश में महिलाओं को सशक्ति किये बिना देश तरक्की नहीं कर सकता। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: