Friday, April 21, 2017

प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना के तहत फसल कटाई प्रयोगो के कार्य का निरीक्षण शुरू


पलवल, 21 अप्रैल,2017(abtaknews.com ) कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपनिदेशक पवन कुमार शर्मा ने बताया कि गेंहू, जौ, सरसो के फसल कटाई प्रयोगो का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है, जिसमें लगभग 41 प्राथमिक कार्यकर्ताओ इस कार्य को पूर्ण करने में लगे हुए है। जिसमे से सरसो व जौ की फसल कटाई प्रयोगो का कार्य पूरा हो चुका है। इन प्रयोगो के निरीक्षण के लिए उपनिदेशक कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, पलवल के सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी, सहायक गन्ना विकास अधिकारी, उपमंडल कृषि अधिकारी व भूमि परिक्षण अधिकारी, पलवल की डयूटी लगाई गई है। 
कृषि निदेशालय हरियाणा चंडीगढ द्वारा भी वरिष्ठ अधिकारी अशोक गर्ग,       एच.सी.एस. जोनल एडमिनिस्टेटर, गुरुग्राम की भी डयूटी जिले में फसल कटाई प्रयोगो के कार्य के निरीक्षण के लिए लगाई गई है, जोकि 22 अप्रैल को प्रात: 10:00 बजे पलवल आ रहे है। जोकि पलवल व होडल खंड के गांवो में जाकर फसल कटाई प्रयोगो के कार्य का रैण्डम विधि द्वारा निरीक्षण व किसानो से मुलाकात करेगे।  फसल कटाई प्रयोगो के बाद औसत पैदावार निकाली जायेगी, जिसके द्वारा गांवो की पिछले छ: वर्षो की औसत पैदावार से कम पैदावार आती है, तो प्रत्येक किसान को उसकी फसल के अन्तर के हिसाब से प्रधानमन्त्री फसल बीमा योजना के तहत मुआवजा दिया जाएगा, जोकि किसानो के बैंक खातो में सीधे ही जमा करवाया जाएगा।
    महोदय ने बताया कि पिछले खरफ सीजन में धान व कपास की फसल का औसतन डाटा लगभग तैयार हो चुका है, जिसके द्वारा जिला पलवल के किसानो के लिए उपज के आधार पर राशि जारी की गई है, जोकि लगभग 10-15 दिनों के अन्दर-2 किसानों के खाते में आ जाएगी।
    उपनिदेशक पवन कुमार शर्मा ने किसानो से अपील की है कि किसान अपने गैंहूं व फसलों के बचे हुऐ अवशेष जनहित में ना जलाएं, बल्कि स्ट्रारिपर इत्यादि से भूसा बनाए। 10-15 किलो ग्राम यूरिया छिडकर व पानी लगाकर मूंग व ढैंचे की बिजाई करें, ताकि गैंहू फसल के अवशेषो का गल-सडक़र भूमि की उपजाऊ शक्ति बढ़ाने के लिए खाद बन सकें।

loading...
SHARE THIS

0 comments: