Friday, April 28, 2017

श्री ब्राह्मण महासभा सेक्टर 37एवं अशोका एंक्लेव ने मनाई भगवान परशुराम जयंती


bhagwan-parshuram-jayanti-celebration-sector-37-faridabad

फरीदाबाद 28अप्रैल(abtaknews.com) श्री ब्राह्मण महासभा सेक्टर 37एवं अशोका इंक्लेब ने आज भगवान श्री परशुराम जयंती मनाई.इस उपलक्ष्य मे भंडारे का आयोजन  हुआ ,जिसमें हजारों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया .इस अवसर पर क्षेत्र के गणमान्य लोगों नें भगवान श्री परशुराम को पुष्पाहार चढाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की .आज के आयोजन में सभा के प्रधान श्री योगेश शर्मा,समाज सेवी श्री गिर्राज शर्मा,श्री बीरेन्द्रदत्त शर्मा,समाजसेवी अवनेश शर्मा, समाजसेवी श्रीमती आशाशर्मा श्रीमती निर्मलातिवारी,श्रीमतीउषाशर्मा,श्रीमती उषा वशिष्ठ,श्री एसएनमिश्रा,श्री आईडी शर्मा,कमल शर्मा,श्रीडीपीशर्मा, पीसी शर्मा,ईश्वर दत्त शर्मा,आरके शर्मा अश्विनी मोगा,आरपी शर्मा,मुकेश शर्मा,आरसी शर्मा अनिलशर्मा भारत शर्मा,आरके तोला,देवेन्द्र कपूरिया,प्रहलाद शर्मा शरणजीत शर्मा,पार्षद श्री रवि भडानाव विषेश रूप से उपस्थित थे.
------------------------------------
भगवान परशुराम ने अत्याचारियों का नाश कर शांति की स्थापना की-रवि शर्मा।


फरीदाबाद (abtaknews.com )भगवान परशुराम जयंती के उपलक्ष्य पर इनसो के जिलाध्यक्ष रवि शर्मा के सेक्टर-7सी स्थित कार्यालय पर एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर रवि शर्मा व सेक्टर के अन्य गणमान्य लोगों ने भगवान परशुराम की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर माथा टेका। इस मौके पर रवि शर्मा ने कहा कि भगवान परशुराम ने हमेशा ही अन्याय व अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई तथा समाज को जीने की राह दिखाई। उन्होनें कहा कि भगवान परशुराम जी ने आतातायीयों व अधर्मियों का नाश कर समाज में शांति की स्थापना की। उन्हीं के दिखाए हुए रास्ते तथा उनकी शिक्षाओं को अंगीकार करते हुए हमें भी समाज में धार्मिक कार्यो को बढ़ावा देते हुए समाज में चंहु और शांति का वातावरण बनें,भाईचारा कायम हो व मध्य समाज का निर्माण हो सकें। उन्होनें कहा कि महापुरूष किसी एक जाति या संप्रदाय के नहीं होते है तथा ना ही वे किसी जाति या संप्रदाय कि विरोधी होते है बल्कि वे तो सकल समाज के पथ प्रदर्शक होते है। इसी प्रकार भगवान परशुराम भी अन्याय,आंतक व अत्याचार के विरोधी थे तथा गरीब व निरीह जनता की रक्षार्थ उन्होनें कितने ही आतातायी राजाओं का विनाश करते हुए उन्हें मौत के घाट तक उतारा। उन्होनें कहा कि भगवान परशुराम  ब्राहण समाज के साथ साथ सकल समाज के प्रेणता तथा पथ प्रदर्शक थे इसलिए हम सभी को उनके दिखाए हुए रास्तों का अनुसरण करते हुए धार्मिक व सामाजिक कार्या में बढ़ चढ़ कर अपनी भागीदारी करनी चाहिए।  इस अवसर पर इनसो के तिगांव के हल्काध्यक्ष विकास चंदीला(बडौली),संतोष नायक,उमाकांत शर्मा,मानव वर्मा,विक्रम राणा,अर्पित केला,जितेन्द्र सूद,साहिल कुमार,मयूर मुदगिल,मयंक,सुभाष शर्मा,सतीश शर्मा,हेमंत शर्मा,मनोज शर्मा,रामअवतार कौशिक,प्रकाश शर्मा व रवि केला इत्यादि लोग उपस्थित थे।  


loading...
SHARE THIS

0 comments: