Wednesday, October 19, 2016

हरियाणा राज्य परिवहन ने बल्लबगढ़ में मनाया ‘‘नो ओवरस्पीडिंग डे’’



फरीदाबाद(abtaknews.com )परिवहन आयुक्त, हरियाणा, चण्डीगढ के आदेशानुसार व उपायुक्त चन्द्रशेखर, आई0ए0एस0 के दिशा निर्देशानुसार हरियाणा राज्य परिवहन के बल्लबगढ बस स्टैण्ड पर श्री सुभाष श्योराण, एच0सी0एस. के नेतृत्व में सड़क सुरक्षा के नोडल अधिकारी डा0 एम.पी सिंह द्वारा ‘‘नो ओवरस्पीडिंग डे’’ मनााया गया। श्री सुभाष श्योराण,एच.सी.एस. आर.टी.ए. फरीदाबाद ने अपने सम्बोधन में कहा कि अधिक स्पीड में बस को चलाने से एवरेज कम आती है और जिससे तेल ज्यादा फुकता है और तेल हम विदेश से लेते है इसलिये इससे विदेश का फायदा होता है।

श्री पूरन चन्द पवार, एच.पी.एस. डी.सी.पी. टेªफिक ने कहा कि अधिक तेज गति चलने से दुर्घटना की सम्भावना ज्यादा हो जाती है। इस बार 460 दुर्घटनाएं हुई हैं जिसमें 161 मृत्यु हो चुकी हैं। इससे बचाव के लिये आपका साथ और सहयोग जरूरी है। आप सरकारी कर्मचारी हैं इसलिए सरकार के नियम व कानून की पालना करना आपके लिये अति आवश्यक है। रोड सेफ्टी के नोडल आॅफिसर डा0 एम.पी. सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि ‘‘नो ओवरस्पीडिंग डे’’ सरकार इसलिये मना रही है कि हर ड्राईवर सड़क सुरक्षा के नियमों की पालना करते हुए सुरक्षित अपने घर पहुंच जाए। डा0 एम.पी. सिंह ने सभी कर्मचारी और अधिकारियों को सीमा से ज्यादा तेज गति से वाहन ना चलाने की व वाहन का उचित रख-रखाव करने की शपथ दिलाई और कहा कि आपकी गाड़ी में अनेकों सवारी आप पर विश्वास व भरोसा करती हैं कि आप नियमों की पालना करते हुए उन्हें उनके गन्तव्य स्थान पर पहुंचा देंगे। आपकी जरा सी लापरवाही उन लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाती है और आपका सम्मान कम हो जाता है। आपके पास लाखों रूपये की सरकारी गाड़ी होती है यदि आप उसे अपने गाड़ी समझकर चलाते हैं तो राष्ट्र का सकल घरेलू उत्पाद बढ सकता है। इसलिये आपसे अनुरोध है कि जल्दबाजी ना करें, दुर्घटना से देर भली, घर पर कोई आपका इन्तजार कर रहा है आदि उदाहरणों को देकर डा0 एम.पी. सिंह ने उनको सचेत किया।

हरियाणा राज्य परिवहन के महाप्रबन्धक श्री रीगल कुमार, एच.सी.एस. ने आए हुए अधिकारियों का स्वागत करते हुए धन्यवाद किया और कहा कि हमारे सभी कर्मचारी अधिकतर नियम और कानून की पालना करते हैं और ईमानदारी से काम करते हैं। इस अवसर पर जितेन्द्र, धमेन्द्र व अन्य ड्राईवरांे ने अनेकों प्रश्न किये और श्री सुभाष श्योराण जी ने सभी प्रश्नांे का जबाव बड़ी शालीनता से दे दिया और कहा कि जब आपकी गलती नहीं होती है तो धारा-182 का अपने बचाव में प्रयोग करना चाहिए।


loading...
SHARE THIS

0 comments: