Sunday, October 16, 2016

स्वदेशी जागरण मंच फरीदाबाद द्वारा विरोध जुलूस



फरीदाबाद(abtaknews.com) प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के नियमों में ढील के केंद्र सरकार के फैसले के विरोध में स्वेदशी जागरण मंच ने मोर्चा खोल दिया है। मंच ने इस फैसले को जनता के साथ विश्वासघात करार दिया। सोमवार को राष्ट्रव्यापी आह्वान पर फैसले के विरोध में मंच की जिला इकाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एसडीएम जितेंद्र दहिया को ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधिमंडल में प्रांत सह-संयोजक सतेंद्र सौरोत, जिला संयोजक कुणालराज गोयल, रविंद्र कुमार, राजेंद्र गुप्ता, विजय कौशिक, प्रमोद अग्रवाल, मनीकांत झा, विजेंद्र माधव, सतीश कुमार मौजूद थे। 

स्वदेशी जागरण मंच के हरियाणा प्रांत सह-संयोजक सतेंद्र सौरोत ने 20 जून को हुए फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि स्थानीय कारोबारियों, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, फल-सब्जी विक्रेता, कृषि और पशुपालन व डेयरी क्षेत्र के लिए ठीक नहीं होगा। भाजपा नीत सरकार विदेशी प्रत्यक्ष निवेश एफडीआई पर वही नीति अपना रही है जो पिछली सरकारों ने अपनाई और इसका रोजगार सृजन पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। इसके अलावा खुदरा, रक्षा और फार्मा जैसे क्षेत्रों को एफडीआई के लिए खोलना और नियमों में ढील देना देश की जनता के साथ विश्वासघात है। ऐसा करके केंद्र सरकार ने सामान्य तौर पर देश के साथ और विशेष रूप से स्थानीय कारोबारियों के साथ अच्छा नहीं किया है। नीति की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि पिछली सरकार को सिंगल ब्रांड खुदरा क्षेत्र में नियमों में ढील देने के मामले में कड़े विरोध का सामना करना पड़ा था और दुर्भाग्य की बात है कि राजग सरकार ने भी ऐसा ही किया है। जिला संयोजक कुणालराज गोयल ने आरोप लगाया कि इस सरकार के साथ समस्या यह है कि यह पिछली सरकार की तरह की सोच के साथ काम करती है और उसे लगता है कि विकास और रोजगार सृजन केवल एफडीआई के साथ ही संभव है। उन्होंने दावा किया कि एफडीआई नीति अपनाने से देश में रोजगार सृजन पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। इस नीति का उद्देश्य रोजगार सृजन करना नहीं, बल्कि भारतीय लोगों से नौकरी छीनना है। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: