Sunday, October 16, 2016

निगमायुक्त सोनल गोयल ने स्डटी विजिट की विशेषताएं बताई



फरीदाबाद, 16 अक्टूबर(abtaknews.com ) भारत सरकार के शहरी विकास मंत्रालय की देखरेख में काम करने वाले शहरी मामलों के राष्ट्रीय संस्थान नेशनल इंस्टीटयूट आफ अरबन अफेयरस (एन.आई.यू.ए.) के द्वारा ब्रिटिश सरकार के पी.एफ.पी. (प्रोस्पर्टी फंड प्रोग्राम) के सहयोग से भारतीय स्मार्ट सिटी शहरों के लिए ट्रांजिट ओरिएंटिड डिवलैपमेंट (टी.ओ.डी.) की  समझ को विकसित करने के लिए गत 4 अक्टूबर से लेकर 6 अक्टूबर तक ब्रिटेन में आयोजित किये गये स्टडी विजिट के दौरान फरीदाबाद नगर निगम की आयुक्त श्रीमती सोनल गोयल ने विश्व के भविष्य के बेहतर शहरों की परियोजनाओं का निर्माण करने वाली विश्वविख्यात अनेकों संस्थाओं का दौरा कर इन संस्थाओं की कार्यप्रणाली का बारीकि से अध्ययन किया हैं।  श्रीमती गोयल के अनुसार उनकी स्टडी विजिट के दौरान किये गये अध्ययन का लाभ निश्चित तौर से फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए मिलेगा।  यहां यह उल्लेखनीय है कि इस स्डटी विजिट का समस्त खर्चा भारत सरकार, शहरी विकास मंत्रालय से सम्बन्धित नेशनल इंस्टीटयूट आफ अरबन अफेयरस के द्वारा वहन किया जा रहा है, न कि हरियाणा सरकार व फरीदाबाद नगर निगम के द्वारा।

श्रीमती सोनल गोयल ने आज यहां यह जानकारी देते हुए बताया कि उनके स्टडी विजिट का मुख्य फोकस सार्वजनिक परिवहन प्रणाली के ट्रांजिट ओरिएंटिड डिवलैपमेंट (टी.ओ.डी.) पर रहा, लेकिन इस दौरान स्टडी टीम ने  एफ.सी.सी. (फयूचर सिटिज केटापुल्ट), नेटवर्क रेल, किंग क्रास टी.ओ.डी. डिवलैपमेंट, दी क्राईस्टाल, लंदन स्कूल आफ इकनोमिक्स एंड पोलिटिक्ल साईस, आरजेंट ग्रुप एल.एल.पी., रायल इंस्टीटयूशन आफ चार्टड सर्वेयर (आर.आई.सी.एस.), डिवल्पर्स आफ कैनारी वहारफ टी.ओ.डी. नामक ब्रिटिश की जानी-मानी संस्थाओं का दौरा किया। उन्होंने बताया कि उक्त संस्थाओं में स्टडी के दौरान शहरों का सुनियोजित विकास, शहरों में मजबूत आधारभूत ढांचे का निर्माण, स्मार्ट तकनीक के द्वारा शहरों के लिए वित प्रबंधन, रेल नेटवर्क,  आदि विषयों का अध्ययन करने के साथ-साथ किंग क्रास टी.ओ.डी. डिवलैपमेंट के तत्वाव्धान में लंदन में चल रही अनेकों परियोजनओं को भी देखा। उन्होंने बताया कि 140 से अधिक देशों में शहरों की भूमि, सम्पति व निर्माण सेक्टर से जुड़ी हुई बहुराष्टीय कम्पनी रायल इंस्टीटयूशन आफ चार्टड सर्वेयर (आर.आई.सी.एस.) की कार्यप्रणाली का भी अध्ययन किया गया।

श्रीमती सोनल गोयल के अनुसार लंदन में  अपने स्टडी विजिट के दौरान यह तथ्य मुख्य रूप से सामने आया कि लंदन में किसी भी परियोजना को लागू करने से पहले उसकी व्यापक योजना (कम्प्रहेसिव प्लानिंग) बनाने में जल्दीबाजी करने की बजाए अत्यधिक ध्यान व समय लगाया जाता है, जिसके परिणामस्वरूप ही वहां पर भूमि की योजना के प्रयोग की बेहतरीन कार्यनीति के तहत एक ही जगह पर आवासीय, कमर्शियल, औद्योगिक, शापिंग माल आदि निर्मित हैं।  इसी प्रकार इंटीग्रेटिड ट्रांस्पोर्ट सिस्टम के तहत मैट्रो रेल, टयूब, सड़क परिवहन, पैदल यात्री, साईकलिंग आदि परिवहन व्यवस्था का इतना बेहतरीन मिश्रण है कि यातायात प्रबंधन में सरकार को ज्यादा निगरानी की आवश्यकता ही नहीं पड़ती है।  उन्होंने बताया कि लंदन शहर को साफ सुथरा स्वस्थ शहर बनाने में वहां की सरकार से ज्यादा वहां के नगारिकों का सहयोग ज्यादा देखा गया।  खास बात यह देखी गई कि चाहे कुछ भी हो लंदनवासी एक तिनका तक भी सड़क पर डालने की बजाए निर्धारित जगहों पर ही डालते हैं और इसी प्रकार के सहयोग के लिए फरीदाबाद-वासियों को जागरूक करने के लिए काम किया जायेगा। 

loading...
SHARE THIS

0 comments: