Tuesday, October 18, 2016

त्यौहारों पर दुकानदार अतिक्रमण ना करें और अपने आस-पास सफाई रखे ;- सोनल गोयल




फरीदाबाद 18 अक्टूबर(abtaknews.com ) फरीदाबाद नगर निगम की आयुक्त श्रीमती सोनल गोयल ने त्यौहारों के अवसर पर दुकानदारों द्वारा अपनी-अपनी दुकानों के आगे किये जा रहे अतिक्रमणों और उनके द्वारा फैलाये जा रहे कूड़े़/गन्दगी के कारण आम नागरिकों को हो रही भारी परेशानी पर चिन्ता व्यक्त की है।  उन्होंने कहा है कि नगर निगम प्रशासन सबके साथ से शहर का विकास के सिद्धांत पर चल कर ही नागरिकों की समस्याओं को दूर करने का पक्षधर हैं, अतः शहर के सभी व्यापार मंडलों, मार्किट एसोसिएशनों, सामाजिक संस्थाओं और रेजिडेन्ट वैलफेयर एसोसिएशन से यह जोरदार अपील है कि त्यौहारों के अवसर पर शहरवासियों को हो रही उक्त परेशानियों के निवारण के लिए वे स्वयं पहलकदमी करें।

निग्मायुक्त ने आज यहां एन.आई.टी. फरीदाबाद में चल रहे सड़कों की मरम्मत के कार्यों व सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करने के बाद बताया कि दुकानदारों के द्वारा अपनी-अपनी दुकानों के आगे लगाये गये/लगाये जा रहे टैन्टों, स्टालों व अन्य सामान आदि के कारण सड़कें व आने-जाने के रास्ते संकरे हो गये हैं जिसके परिणामस्वरूप यातायात जाम की समस्या उत्पन्न हो रही है। उन्होंने बताया कि आपातकालीन परिस्थितियों में अग्निशमन के वाहनों तक के आने-जाने का रास्ता अतिक्रमणकारियों  के द्वारा नहीं छोड़ा गया है,  जिसे कि व्यापक जनहित में उचित नहीं कहा जा सकतां

श्रीमती गोयल ने शहर के सभी व दुकानदारों को भी आह्वान किया है कि वे त्यौहारों के अवसर पर अपनी दुकानदारी तो अच्छे से करें लेकिन वे यह भी सुनिश्चित करें कि उनकी दुकानदारी के कारण हो रहे अतिक्रमण व उनके द्वारा फैलाये जा रहे कूड़े के परिणामस्वरूप शहरवासियों को किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े और आवश्यकता पड़ने पर अग्निशमन वाहनों का आने-जाने में अवरोधों का सामना न करना पड़े। उन्होंने उम्मीद जाहिर की है कि शहर के व्यापार मंडल, मार्किट एसोसिएशन, सामाजिक संस्थायें और रेजिडेन्ट वैलफेयर एसोसिएशन उनकी इस अपील पर सकारात्मक दृष्टिकोण अपनायेगा, जिससे कि नगर निगम प्रशासन को ऐसे अतिक्रमणों को हटाने और अतिक्रमणकारियों और गन्दगी फैलाने वाले दुकानदारों के विरूद्ध हरियाणा नगर निगम अधिनियम 1994 की धारा 238 व 273 में किये गये प्रावधानों के तहत कार्यवाही करने को मजबूर ना होने पड़े।


loading...
SHARE THIS

0 comments: