Sunday, October 16, 2016

भारत और विदेशों में भारतीय रेशम की ब्रांडिंग करने की जरूरत :- स्‍मृति ईरानी






केन्‍द्रीय कपड़ा मंत्री श्रीमती स्‍मृति जुबिन ईरानी ने कहा है कि भारत और विदेशों में भारतीय रेशम की ब्रांडिंग करने की तत्‍काल आवश्‍यकता  है ताकि ब्रांडेड उत्‍पाद और अधिक विदेशी खरीदारों को आकर्षित कर सके और इससे बेहतर कीमत हासिल हो सके। मंत्री महोदया आज भारतीय रेशम निर्यात संवर्द्धन परिषद(आईएसईपीसी) की अग्रणी कार्यक्रम पांचवें अंतरराष्‍ट्रीय रेशम मेले के उद्घाटन के दौरान बोल रही थीं। इस मेले का आयोजन 15 से 17 अक्‍टूबर,2016 त  क राजधानी के प्रगति मैदान में किया गया है।उन्‍होंने कहा‍ कि रेशम  उद्योग का भविष्‍य बहुत ही उज्‍ज्‍वल है। श्रीमती ईरानी ने लघु एवं मझौले उद्योगों को एक प्‍लेटफार्म उपलब्‍ध कराने तथा विदेशी खरीदारों के समक्ष उत्‍पादों के प्रदर्शन के लिए एक प्रदर्शनी का आयोजन करने के लिए परिषद की प्रशंसा की।
 इस अवसर पर कपड़ा राज्‍य मंत्री श्री अजय टमटा विशेष अतिथि के रूप में, केन्‍द्रीय रेशम बोर्ड के अध्‍यक्ष श्री के एम हनुमंतरायप्‍पा और भारतीय रेशम निर्यात संवर्द्धन परिषद के अध्‍यक्ष श्री टी वी मारुति भी उपस्थित थे। इस मेले में देश भर के अलग-अलग भागों से 110 भागीदार भाग ले रहे हैं। इस मेले में पोशाक ,सामग्री, कारपेट साड़ी और आंतरिक सजावट की रेशम और रेशम मिश्रित रेशों से बनाई गई वस्‍तुओं का प्रदर्शन किया जा रहा है। मेले के पहले ही दिन एक सौ से अधिक विदेशी खरीदारों ने अपना पंजीकरण कराया है। जापान से 26 खरीदारों का एक प्रतिनिधिमंडल रेशम के धागे ,सामान ,पोशाक और फर्श की सजावट की वस्‍तुओं के लिए इस मेले में आया हुआ है। मेले में
प्रदर्शित सामग्री खरीदारों के लिए विशेष आकर्षण के केंद्र बने हुए हैं। वे इनके बारे में पूछताछ कर रहे हैं और इनका ऑर्डर दे रहे हैं।
 केन्‍द्रीय रेशम बोर्ड ने इस मौके पर ‘सॉइल टु सिल्‍क’ विषय पर भारतीय रेशम उद्योग के ‘विषयगत उभार’ कर्यक्रम का आयेाजन किया है। इसमें दिखाया गया है कि शहतूत की पत्तियों में रेशम के कीड़े कैसे बढ़ते हैं और फिर ये कैसे कोया में परिवर्तित होते हैं। इसके बाद रेशम के धागा बनता है। इसके अलावा  बोर्ड ने भारतीय रेशम के  पोशाक, मलबरी रेशम ,एरी रेशम तस्‍सर रेशम और मुगा रेशम जैसे विभिन्‍न उत्‍पादों का भी प्रदर्शन किया है। इस तीन दिनों के मेले में आईएसईपी करीब 50 मीलियन अमेरिकी डॉलर का कारेाबार होने की उम्‍मीद कर रही है। आज ही परिषद नई दिल्‍ली के एक ईरोज होटल में खरीदारों और विक्रेताओं की एक बी2 बी बैठक का भी आयोजन कर रही है। उसी स्‍थल पर इन खरीदारों के लिए शाम को एक भारतीय रेशम उत्‍पादों पर आधारित एक फैशन शो का आयोजन भी किया गया है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: