Sunday, October 9, 2016

”मेरी नैया में लक्षमण राम सवार, गंगा मैया धीरे बहो।


फरीदाबाद 9 अक्टूबर (abtaknews.com )””मेरी नैया में लक्षमण राम सवार, गंगा मैया धीरे बहो।””श्रीरामलीला सेवा समित सेक्टर37 के तत्वावधान में मंचित की जा रही रामलीला में आज केवट-राम मिलन प्रसंग के मंचन के अवसर पर भक्ति की पराकाष्टा के दृश्यों के दर्शन हुए जब भगवान स्वयं भक्त के पास जाते हैंऔर भक्त की सारी शर्तें मानते हैं।मंचन में दिखाया गया कि किस प्रकार भगवान राम अपने पिता द्वारा दिए गए 14 वर्ष के वनवास के क्रम में गंगा तट पर पहुँचते हैं तो निषादराज से उनकी मुलाकात होती है।राम उनसे गंगा पार कराने को कहते हैं।निषादराज उनसे कहते हैं कि आप के चरणों की धुल के स्पर्श से जबशिला नारी बन सकती है तो मेरी नाव तो लकड़ी की बनी हैऔर अगर यह नारी बन जाती है तो मेरी आजीविका का एकमात्र साधन छिन जाए गा।इसलिए बगैर पाँव धोए वह उन्हे नाव में नहीं बैठाए गा।लम्बे वाद विवाद के बाद भगवान रामअपने पैर धुलवाकर नाव में सवार होकर गंगा पार कर जाते हैं,लेकिन उतराई लेने की बात पर बड़ी चतुराई से फिर भगवान राम को निरुत्तर कर देता है।वह कहता है कि मैं छोटा केवट हूँ जो नदी पार कराता हूँऔर आप बड़े केवट हैं जो भवसागर पार कराते हैं।इस प्रकार दोनों स्वजातीय हैं जो आपस में मेहनतामा नहीं लेते।वह कहता है कि आज उसने उन्हें नदी पार कराई हैऔर जब वह उनके घाट ( भवसागर) पर आएगा तो वह (राम)उन्हें भवसगरसे पार उतार दें।आज के मंचन में इसके अतिरिक्त दशरथ मरणएवं भरत मिलाप के प्रसंगों का मंचन हुआ!कथाव्यास अपनी संगीतमयी कथाएवं सुगम ब्याख्या से मंचन को और भी रसमयी बना दिया।आज के मंचन के अवसर पर  तिगाँव विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री ललित नागर  मुख्यअतिथि मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थि थे।इसके अतिरिक्त  श्री रामलीला सेवा समित सेक्टरके पधान  श्रीज्ञानचन्दभडाना,आरडब्ल्यूएसेक्टर37पूर्व प्रधान शीमती आशा शर्मा, सेवासमित कार्यकारिणी के पदाधिकारीएवं सदस्य श्रीविजयकुमार, दलबीरअग्रवाल, अर्जुनवालिया तीर्थचाटली,पवन मलिक,केएस भाटी,आरएल झँवर,प्रमोद ठक,डीकेतिवारी,एसएसजेटली,पीएनधमीजाएसएनमिश्रा,अजय गोयल,इन्द्र,राजेश पाण्डेय,दीपक गर्ग,एमएसभाटिया,आशीष शर्मा7,केएससैनी37 एवंअजितनागर समिति के पूर्व प्रधान उपस्थित थे। 
----------------------------
श्री रामलीला सेवा समित सेक्टर 37 द्वारा मंचित की जा रही रामलीला में आज भगवान राम का ऋषि अगस्त से  मिलन पंचवटी प्रवास, मारीच वध,सूपर्णखा राम संवाद, लक्षमण द्वारा सूपर्णखा की नाक काटना, सबरी - राम मिलन,बाली वध एवं सीता हरण के प्रसंगों का मंचन हुआ ।वृंदावन से पधारी स्वामी कन्हैयालाल की गोविंद गोपाल लीला संस्थान के मँझे हुए कलाकारों द्वारा जीवंत मंचन से दशर्क भाव विभोर हो गए।आज के मंचन अवसर पर बदरपुर विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक श्री रामसिंह नेताजी विशेष रूप से उपस्थित थे।इसके अतिरिक्त समिति के प्रधान श्री ज्ञानचन्द भडाना आरडब्ल्यूए सेक्टर 37  की पूर्व प्रधान श्रीमती आशाशर्मा कार्यकारिणी के पदाधिकारी श्री विजयकुमार अर्जुन वालिया, दलबीर अग्रवाल, सुनीलकुमार, तीर्थ चाटली बरिष्ठ उपप्रधान श्री आरएल झँवर, कोषाध्यकष श्री एसएसजेटली, उपप्रधान श्री पवनमलिक एवं श्री केएसभाटी, सचिव श्री प्रमोद पाठक तथा डी के तिवारी, सह कोषाध्यकष श्री पीएन थमीजा, मीडिया प्रभारी श्री एसएनमिश्रा  श्री एसएनमिश्रा समेत हजारों लोग मौजूद थे ।

loading...
SHARE THIS

0 comments: