Friday, October 14, 2016

भगवत कथा में हुआ राम के सुन्दर चरित्र का चित्रण


फरीदाबाद 14 अक्टूबर(abtaknews.com) श्री गोपाल मन्दिर ट्रस्ट के वार्षिक उत्सव के दूसरे दिन व्यास गद्दी पर आसीन वृन्दावन से परम श्रेदय सन्तोशानन्द जी महाराज ने राम के सुन्दर चरित्र का चित्रण सुन्दर शब्दों में व्यक्त किया, महादेव जी राम जी के बारे में सब जानते है। लेकिन पार्वती जी अनभिज्ञ है, वो उनकी परीक्षा लेती है भगवान् राम के सरल व सहज स्वभाव के समक्ष अपनी भूल का अहसास होता है। रामजी को वही पा सकता है जिसका निर्मल मन जन  सो मोहि पावा उन्हें वह पसन्द नहीं, मोहि कपट, छल छिद्र न भावा, अर्थात् वह सच्चे भाव के भूखे हैं। अंहकारी, धमण्ड वालों से उनका कोई लगाव नहीं। सच्चे व निर्मल मन से ही उनकी भक्ति सम्भव है। दीनन के दु:ख हरने वाले हैं, उनकी महिमा अपरम्पार है। श्रेश्ठ व्यक्ति में जो गुण होने चाहिए वे उनसे ओत प्रोत हैं। रामचरित्र ही समाज की एक श्रेश्ठ जीवन षैली है।  

कथा के पष्चात् ट्रस्ट के पदाधिकारी राज कुमार षर्मा जी, जनक राज षर्मा जी, महेन्द्र अरोड़ा जी, चन्द्र प्रकाष कालड़ा जी, कृश्ण भटेजा जी, कृश्ण चन्द षर्मा जी, रमेष खट्टर जी, पुनित खट्टर जी, होषियार सिंह जी, गिर्राज किषोर जी,रोहताष चौधरी जी, राम प्रकाष चावला जी, भरत मखिजा जी द्वारा महाराज जी का माल्याअर्पण कर आरती व प्रसाद वितरित किया गया। इरस अवसर पर अध्यक्ष राजकुमार शर्मा, प्रधान जनक राज शर्मा के अलावा कृष्ण चंद शर्मा, सुरेश तनेजा, नरेश वधवा, महेन्द्र अरोड़ा, रमेश खट्टर, मदन लाल अरोड़ा, व प्रचार मंत्री किशन बटेजा व सुभाष शर्मा उपस्थित थे


loading...
SHARE THIS

0 comments: