Tuesday, October 4, 2016

28 देश ‘इंडिया टेलीकॉम-2016’ में भाग ले रहे हैं;- मनोज सिन्हा


केंद्रीय संचार मंत्री श्री मनोज सिन्हा ने आज विश्व को आश्वस्त किया कि भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी कि भारतीय दूरसंचार उत्पाद और सेवाएं किसी की भी दूरसंचार जरूरतों की पहली पसंद बन जाएं। दूरसंचार निर्यात संवर्धन परिषद की आठवीं क्रेता-विक्रेता बैठक का आज यहां उद्घाटन करते हुए उन्‍होंने कहा कि अगर किसी को सुरक्षित आईसीटी उत्पादों की तलाश है, तो उसे भारतीय उत्पादों पर भरोसा करना चाहिए और हमारा उद्योग ‘तकनीकी जानकारी’ एवं ‘अंतर्निहित सिद्धांतों की समझ’ को साझा करने को इच्छुक है। उन्होंने कहा कि भारतीय निर्माता कई देशों को आईटी एवं दूरसंचार उत्पादों के निर्यात में पहले ही काफी प्रगति कर चुके हैं और इसके साथ ही उन्‍होंने यह साबित कर दिया है कि भारतीय आईटी एवं दूरसंचार उत्पाद विश्वस्तरीय गुणवत्ता के हैं और प्रौद्योगिकी एवं कीमत के लिहाज से विश्‍व स्‍तर पर प्रतिस्पर्धी हैं। श्री सिन्हा ने कहा कि विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी दूरसंचार उद्योग के सभी तत्व भारत में विद्यमान हैं। विशाल घरेलू बाजार, विश्व स्तर की प्रतिभा, अनुसंधान एवं विकास और बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) के सृजन पर फोकस के साथ-साथ इलेक्ट्रॉनिक विनिर्माण के लिए मजबूत ढांचा भी इन तत्‍वों में शामिल हैं।
श्री सिन्हा ने दक्षिण एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया, कैरिबियन, लैटिन अमेरिका और अफ्रीका के 28 प्रतिभागी देशों के प्रतिनिधियों को बताया कि भारत विशेष रूप से ब्रॉडबैंड की बढ़ती पैठ के बल पर सबसे तेजी से बढ़ते दूरसंचार नेटवर्क होने का गौरव भी रखता है। इस विशाल दूरसंचार नेटवर्क को ऐसे उपकरणों और प्रौद्योगिकी की आवश्यकता है जो दुनिया में सर्वोत्‍त्‍म हो। इसके बावजूद भारत में टेलीफोन संबंधी शुल्‍क दरें दुनिया में सबसे कम हैं।
डिजिटल खाई को पाटने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के डिजिटल इंडिया विजन का उल्‍लेख करते हुए श्री सिन्‍हा ने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ और ‘डिजिटल इंडिया’ संबंधी पहलों पर दिए जा रहे विशेष जोर को देखते हुए अभिनव उत्पादों एवं सेवाओं के लिए एक बड़ा अवसर सृजित हुआ है तथा भारत एक और डिजिटल एवं डेटा क्रांति के लिए तैयार है।
अपने संबोधन में दूरसंचार सचिव श्री जे.एस. दीपक ने कहा कि पिछले एक महीने में भारतीय दूरसंचार क्षेत्र एक दूरसंचार ऑपरेटर की व्‍यापक लांचिंग, बड़े विलय और भारत में अब तक की सबसे बड़ी स्पेक्ट्रम नीलामी की शुरुआत जैसी कुछ प्रमुख घटनाओं का गवाह रहा है।

loading...
SHARE THIS

0 comments: