Tuesday, October 18, 2016

कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस हाईवे का फरीदाबाद के किसानों ने रोका काम



फरीदाबाद (abtaknews.com )फरीदाबाद से गुजर रहे कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस हाईवे का किसानों ने रोका काम। किसानों ने मिट्टी और पानी देना किया बंद। किसानों का आरोप है कि एक्सप्रेस हाईवे बनने के बाद फरीदाबाद के किसानों के आवागमन के लिए कोई रास्ता नहीं बचेगा, जबकि फरीदाबाद के 12 गांवों के किसानों की हजारों एकड़ जगह यमुना पार उत्तर  प्रदेश की सीमा में लगती है। रोजाना फरीदाबाद के सैंकड़ों किसान यमुनापार अपने खेतों में काम करने जाते हैं और फज्जूपुर खादर गांव में बन रहे 10 लेन के पुल बनने के बाद यूपी और फरीदाबाद के किसानों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी।

फरीदाबाद का फज्जूपुर खादर गांव है, जहां पर यमुना नदी के आसपास बसे गांवों के किसान धरने पर बैठकर नारेबाजी कर रहे हैं। गांव फज्जूपुर खादर की सरपंच मंजूबाला,  किसान संघर्ष समिति के अध्यक्ष राजेश भाटी,शाहजहांपु के सरपंच नाहर सिंह, किसान विनय भाटी और चंद्र पाल ने बताया कि  यमुनापार इन 12 गांवों की 2000 एकड़ से भी अधिक भूमि यमुना के कटाव में यूपी में चली गई तो फरीदाबाद के किसानों को खेतीबाड़ी करने के लिए यमुना पार उत्तर प्रदेश में जाना होता है। भूमि विवाद को लेकर पहले हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसानों में खूनी खेल होता रहा है। कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस हाईवे का काम फज्जूपुर खादर गांव के अलावा अन्य कई गांवों से होकर गुजर रहा है, लेकिन फज्जूपुर खादर गांव के आसपास के सभी 12 गांवों के पास एक्सप्रेस वे पर 10 लेन का पुल बन रहा है। इसके बनने के बाद यूपी और फरीदाबाद के किसानों की कनैक्टिविटी खत्म हो जाएगी। किसानों की मानें तो तीन महीने पहले एनएचएआई के चेयरमैन राघव चंद्रा उनके गांव में आए तो उन्होंने इस समस्या को सुनने के बाद किसानों को इस समस्या का हल करने का आश्वासन दिया था, लेकिन अब तीन दिन पहले वे आए तो उन्होंने साफतौर पर इंकार कर दिया। किसानों का कहना है कि  जब तक इस समस्या का समाधान नहीं होता तब तक वे काम नहीं होने देंगे। फिलहाल किसानों ने मिट्टी और पानी देना बंद कर दिया है। 
एडिशनल एसएचओ धनसिंह नें बताया कि  किसानों की मांग है कि यहां पर पुल के बराबर किसानों के लिए रास्ता छोड़ा जाए, ताकि खेताबाड़ी की जा सके। किसान धरने को शांतिपूर्ण कर रहे हैं। 


loading...
SHARE THIS

0 comments: