Tuesday, October 4, 2016

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक में भर्ती प्रारंभ



इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक(आईपीपीबी) ने मुख्य कार्यकारी अधिकारी/प्रबंध निदेशक, मुख्य टेक्नोलॉजी अधिकारी(सीटीओ) तथा बैंक के संचालन, जोखिम और अनुपालन , वित्त, एचआर तथा प्रशासन और बिक्री तथा विपणन विभागों के लिए सीएक्सओ पद पर नियुक्ति के लिए विज्ञापन जारी करने के साथ ही अपना भर्ती अभियान शुरु कर दिया। बैंक ने विभिन्न विभागों के लिए संविदा आधार पर पदों के लिए भी विज्ञापन जारी किया है। आने वाले सप्ताहों में स्केल I-VII पदों के लिए नियमित भर्ती की घोषणा की जाएगी। आईपीपीबी ने कारपोरेट मुख्यालय पदों के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से प्रतिनियुक्ति की भी पहल की है। शीघ्र ही बैंकों, डाक घरों तथा अन्य सरकारी विभागों से बैंक की शाखाओं के लिए अधिकारी प्रतिनियुक्ति आधार पर मांगे जाएंगे। आईपीपीबी की योजना आने वाले महीनों में 3,500 पेशेवर लोगों की भर्ती करने की है।

आईपीपीबी का मुख्यालय नई दिल्ली में होगा। अगले वर्ष तक बैंक की 650 शाखाएं खोलने की योजना है। इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक को डाक घरों की व्यापक पहुंच और उनकी साख का लाभ मिलेगा। बैंक की पहुंच 1.39 लाख ग्रामीण डाक घरों सहित 1.54 लाख डाक घरों तक होगी। पेमेंट्स बैंक की 650 शाखाएं जिला मुख्यालय में होंगी। पहुंच के मामले में यह बैंक काफी सुविधापूर्ण साबित होगा। उपभोक्ताओं के लिए बैंकिंग को सरल और सुविधाजन बनाने के लिए आधुनिक टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाएगा। आईपीपीबी उपभोक्ताओं की आवश्कताओं के अनुसार वित्तीय सेवा में प्रत्येक नागरिक से जुड़ने के लिए संकल्पबद्ध है और ऐसे पेशवर लोगों की अपेक्षा करता है जो राष्ट्रीय वित्तीय ढांचा खड़ा कर सकें।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक लिमिटेड को 17 अगस्त, 2016 को कंपनी अधिनियम, 2013 के अंतर्गत कारपोरेट मंत्रालय के कंपनी रजिस्ट्रार से कंपनी प्रमाण-पत्र मिला। यह डाक विभाग के अंतर्गत पहला सार्वजनिक प्रतिष्ठान होगा। बैंक की स्थापना प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के स्वतंत्रता दिवस संबोधन में की गई घोषणा के परिपेक्ष्य में हुई है। इसके साथ ही डाक विभाग ने महत्वपूर्ण छलांग लगाने में सफलता प्राप्त की है।

डाक विभाग पूरे देश में बैंक की शाखाएं खोलने का काम सितंबर, 2017 तक पूरा कर लेगा। यह विश्व में बहुत अधिक शीघ्रता के साथ बैंकिंग क्षेत्र में उतरने वाला बैंक होगा।

loading...
SHARE THIS

0 comments: