Thursday, October 13, 2016

कर्मचारी यूनियन का हरियाणा में 26 व 27 अक्तूबर को दो दिवसीय हड़ताल का ऐलान


फरीदाबाद,13 अक्टूबर(abtaknews.com ) नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा ने सरकार पर दलित विरोधी होने और कर्मचारियों की जायज मांगों की घोर उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए 26 व 27 अक्तूबर को दो दिवसीय हड़ताल करने का ऐलान किया है। इसके साथ ही संघ ने काली दीवाली मनाने का भी निर्णय लिया है। दो दिवसीय हड़ताल में 20 हजार से अधिक पालिकाओं, परिषदों व नगर निगमों के कर्मचारी शामिल होंगे। नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने यह दावा यूनियन कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में करते हुए बताया कि हड़ताल की ऐतिहासिक सफलता सुनिश्चित करने के लिए कल 14 से 20 अक्तूबर तक कमिश्नरी वाईज पालिका कर्मचारी उपायुक्त कार्यालयों पर प्रदर्शन और मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन उपायुक्तों को सौंपें जाएंगे। जिसके तहत कल फरीदाबाद, गुडग़ांव, पलवल, मेवात, रेवाड़ी व महेन्द्रगढ़ में प्रदर्शनों का आयोजन किया जाएगा। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा भी इस आन्दोलन के समर्थन में खुलकर सामने आ गया है। पत्रकार वार्ता में उपस्थित सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा ने दो दिवसीय हड़ताल व उपायुक्त कार्यालयों पर होने वाले प्रदर्शनों तथा मांगों का पुरजोर समर्थन करते हुए सरकार से टकराव का रास्ता त्यागकर बातचीत से हड़ताली कर्मचारियों की मांगों का समाधान करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी विभागों के कर्मचारी नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा की हड़ताल के समर्थन में 25 अक्तूबर को सभी जिलों में मशाल जलूस निकालते हुए एकजुटता की कार्यवाहियां करेंगे।

नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रधान नरेश कुमार शास्त्री ने पत्रकारों से रूबरू होते हुए बताया कि संघ द्वारा शहरी स्थानीय निकाय मंत्री को हड़ताल का नोटिस देने के बाद ही 7 अक्तूबर को बातचीत के लिए बैठक आयोजित की। उन्होंने आरोप लगाया कि यह बैठक केवल औपचारिकता पूरी करने के लिए ही की गई। इस बैठक में सरकार की मांग-पत्र पर कोई तैयारी नहीं थी और न ही मांगों के समाधान के प्रति कोई गंभीरता दिखाई दी। उन्होंने कहा कि माननीय कैनिबेट मंत्री कविता जैन ने अधिकतर मांगों को मुख्यमंत्री के पास भिजवाने व एग्जामिन करवाने का ही आश्वासन दिया। उन्होंने दो टूक कहा कि पालिका, परिषदों व नगर निगमों के कर्मचारी आश्वासन नहीं मांगों का ठोस समाधान चाहते हैं। जब तक एक-एक मांग का समाधान नहीं होगा, प्रदेश में पालिका, परिषदों व नगर निगमों के कर्मचारियों का आन्दोलन जारी रहेगा। उन्होंने बताया कि नगरपालिका कर्मचारी संघ ने सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा व अन्य विभागीय संगठनों को पत्र लिखते हुए दो दिवसीय हड़ताल का तन-मन-धन से सहयोग एवं समर्थन देने की अपील की है। पत्रकार वार्ता में नरेश कुमार शास्त्री के अलावा सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के महासचिव सुभाष लाम्बा, जिला सचिव युद्धवीर सिंह खत्री, नगरपालिका कर्मचारी संघ के राज्य सचिव सुनील चिंडालिया व जिला सचिव नानकचंद खैरालिया उपस्थित थे।

क्या हैं कर्मचारियों की प्रमुख मांंगें :-

१. सातवें वेतन आयोग का लाभ अन्य विभागों के कर्मचारियों के साथ ही पालिका, परिषदों व नगर निगमों के कर्मचारियों एवं सेवानिवृत्त कर्मचारियों को देना सुनिश्चित किया जाए।
२. पालिकाओं, परिषदों व नगर निगमों में कार्यरत अग्निशमन, सफाई, बेलदार सहित सभी श्रेणी के डेली वेजिज, पार्ट टाईम, तदर्थ, आऊटसोर्स व ठेका आधार पर लगे कर्मचारियों को बिना शर्त नियमित किया जाए।
३. ठेका प्रथा पूरी तरह समाप्त की जाए और भविष्य में रेगूलर काम के लिए रेगूलर भर्ती की जाए।
४. अनियमित कर्मचारियों को 24 हजार न्यूनतम वेतनमान दिया जाए।
५. अनियमित कर्मचारियों की मृत्यु होने पर इनके आश्रितों को नौकरी व 5 लाख रुपए एकमुश्त सहायता दी जाए।
६. चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को सस्ती दरों पर 100-100 वर्गगज के प्लॉट दिए जाएं या आवासीय कॉलोनियों का निर्माण किया जाए।
७. फायर विभाग में लागू की गई 2016 की आऊटसोर्सिंग नीति वापिस ली जाए।
८. मुख्य सचिव की हिदायतों को सख्ती से लागू करते हुए ईपीएफ, जीपीएफ व ईएसआई के घोटालों की जांच करवाई जाए और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाए।
९. वर्कलोड के अनुसार पदों का पुर्नगठन करते हुए रिक्त पड़े 15 हजार से अधिक पदों को भरा जाए।
१०. सफाई कर्मचारी, सीवरमैन, इलैक्ट्रीशियन व फायर विभाग के कर्मचारियों को 5 हजार रुपए जोखिम भत्ता दिया जाए व 10 लाख रुपए दुर्घटना बीमा  करवाया जाए।


loading...
SHARE THIS

0 comments: